पटियाला : 556 दिव्यांगों को 50 लाख की राशि से दिए जाएंगे कृत्रिम अंग

0
artificial-limbs

समाना, पातड़ां, नाभा और पटियाला में जिला रेडक्रॉस और अपंग पुनर्वास केंद्र ने कैंप लगाकर की जांच | Artificial Limbs

  • कृत्रिम अंगों जिनमें बैसाखी, ट्राई साइकिल, सुनने वाली मशीन, नेत्रहीनों के लिए आधुनिक सैंसर युक्त स्टिक और मन्दबुद्धि बच्चों को दी जाएंगी एमआर किटें

पटियाला(सच कहूँ न्यूज )। जिले के दिव्यांगों की लंबे समय से चली आ रही मांग को जिला प्रशासन जल्दी ही पूरा करेगा, जिसके अंतर्गत दिव्यांगें को शरीर के सभी कृत्रिम अंगों जिनमें बैसाखी, मोटराईज ट्राई साइकिल, ट्राई साइकिल, व्हील चेयर, सुनने वाली मशीन, नेत्रहीनों को स्मार्ट फोन, आधुनिक सैंसर वाली स्टिक और मन्दबुद्धि बच्चों के लिए एमआर किटें दी जाएंगी। दिलचस्प बात यह है कि अब तक इन सभी वस्तुओं के लिए जिले के लोगों को चंडीगढ़, लुधियाना और दिल्ली तक जाना पड़ता था और हजारों रुपये भी खर्च करने पड़ते थे परंतु अब यह सब कुछ आसान हो जाएगा।

पटियाला के एसडीएम चरनजीत सिंह ने बताया कि डिप्टी कमिश्नर कुमार अमित के प्रयासों से यह संभव हुआ है। उन्होंने बताया कि जिले में 556 दिव्यांगों की पहचान त कर ली गई है, जिनको 50 लाख रुपये से अधिक कृत्रिम अंग दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि समाना, पातड़ां, नाभा और पटियाला में जिला रेडक्रास और अपंग पुनर्वास केंद्र ने कैंप लगाकर 1460 लोगों की जांच की गई है, जिनमें 556 दिव्यांगों को किसी भी तरह की सहायता लेने के योग्य पाया गया है।

लाभपात्रियों की पहचान कर उसी समय जरूरत अनुसार नाप भी लिया गया है। इसके साथ आगामी दिनों में कृत्रिम अंग बनाने का काम शुरू कर दिया जायेगा और अगले कुछ हफ़्तों में यह समान दिव्यांग व्यक्तियों में बांट दिए जाएंगें। इस मौके जिला सामाजिक सुरक्षा अधिकारी वरिन्दर सिंह टिवाना, पटियाला वैलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष विजय गोयल, समाज सेवक लक्ष्मी गुप्ता, दीपक जैन, उपकार सिंह, पवन सिंगला आदि उपस्थित थे।

दिव्यांगों को सभी प्रकार के कृत्रिम अंग उनके घर जाकर मुफ़्त दिए जाएंगें

एसडीएम चरनजीत सिंह ने बताया कि जिला प्रशासन के अपंग पुनर्वास केंद्र ने इंडियन आॅयल निगम के सहयोग से बहुत ही बढ़िया प्रयास किया है, जिसके अंतर्गत दिव्यांगों को सभी प्रकार के कृत्रिम अंग उनके घर जाकर मुफ़्त दिए जाएंगें। जिला पुर्नवास केंद्र के प्रधान डॉ. प्रितपाल सिंह सिद्धू ने बताया कि जिले के दिव्यांगों की जांच डा. अशोक साहू, डॉ. निरंजन व डॉ. अनिल कुमार की टीम ने की, जबकि इंडियन आॅयल निगम के उत्तरी क्षेत्र पाईप लाईन नाभा के प्रोजैक्ट अधिकारी प्रवीण कुमार ने कहा कि वह भविष्य में भी पटियाला निवासियों की सेहत सेवा के लिए इस तरह के कैंप लगाए जाएंगें।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।