हिमाचल के सरकारी स्कूलों में पढ़ाने वाले साढ़े 12 हजार शिक्षक होंगे नियमित

0

पीटीए, पैट शिक्षकों को नियमित करने को मंजूरी

शिमला (एजेंसी)। हिमाचल प्रदेश मंत्रिमंडल ने पीटीए, पैट और पैरा टीचरों की सेवाओं को नियमित करने को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। इस फैसले से विभिन्न सरकारी विद्यालयों में कार्यरत लगभग 6500 पीटीए, 3300 पैट और 97 पैरा टीचर लाभान्वित होंगे। लंबे समय से नियमित होने का इंतजार कर रहे पीटीए और पैट शिक्षकों को प्रदेश सरकार ने यह बड़ा तोहफा दिया है। इस आशय का निर्णय मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बैठक में लिया गया। प्रदेश के सरकारी स्कूलों में सेवाएं दे रहे करीब साढ़े 12 हजार शिक्षक नियमित किए जाएंगे।

ज्ञातव्य है कि उच्चतम न्यायालय ने पिछले दिनों ही पीटीए पैट और पैरा शिक्षकों को नियमित किये जाने संबंधी फैसला सुनाया था तथा पीटीए शिक्षकों को सरकार पहले ही नियमित शिक्षकों के बराबर वेतन दे रही है। मामला कोर्ट में विचाराधीन होने के चलते सरकार इन्हें नियमित नहीं कर पा रही थी।

पर्यटन उद्योगों को कार्यशील पूंजी पर ब्याज में छूट

कोविड-19 महामारी के कारण प्रभावित हुए पर्यटन उद्योग के पुनर्जीवित करने के लिए कार्यशील पूंजी पर दिए जाने वाले ऋण पर ब्याज की छूट के लिए योजना प्रारूप को स्वीकृति प्रदान की गई। इस योजना के तहत 31 मार्च तक एक करोड़ रुपये का जीएसटी चुकाने वाली पर्यटन इकाइयां 50 लाख रुपये तक के अधिकतम ऋण के लिए पात्र होंगी। ऋण अवधि चार वर्षों के लिए होगी जिसमें पहले दो वर्षों तक ब्याज में हर वर्ष 50 प्रतिशत छूट होगी। कैबिनेट ने पर्यटन विभाग की तर्ज पर परिवहन विभाग में भी कार्यशील पूंजी के लिए ब्याज में छूट के लिए योजना लाने का भी निर्णय लिया।

फलों का समर्थन मूल्य बढ़ाया

बैठक में वर्ष 2020 के लिए मंडी मध्यस्थता योजना के अंतर्गत सेब समर्थन मूल्य में 50 पैसे की वृद्धि कर आठ रुपये से 8 रुपये 50 पैसे प्रति किलो करने का निर्णय लिया गया। योजना के अंतर्गत 20 जुलाई से 15 नवंबर 2020 तक 1.50 लाख मीट्रिक टन सेब की खरीद की जाएगी, जिसके लिए सेब उत्पादकों की मांग के आधार पर राज्य के विभिन्न भागों में 283 क्रय केंद्र खोले जाएंगे। इस योजना के तहत अंकुरित आम, अचारी आम और कलमी आम को 8 रुपये 50 पैसे प्रति किलो की दर से क्रय को भी स्वीकृति प्रदान की। इसी प्रकार, बी ग्रेड किन्नु, माल्टा और संतरे के समर्थन मूल्य को 7 रुपये 50 पैसे प्रति किलो तथा सी ग्रेड किन्नु, माल्टा और संतरे के समर्थन मूल्य को सात रुपये प्रति किलो करने की स्वीकृति प्रदान की गई। मंडी मध्यस्थता योजना के तहत गलगल का क्रय मूल्य छह रुपये प्रति किलो निर्धारित किया गया है। यह योजना 21 नवंबर से 15 फरवरी, 2021 के मध्य संचालित होगी। फल उत्पादकों को समर्थन मूल्य से उनके पारिश्रमिक का उचित मूल्य सुनिश्चित होगा।

किसानों की आय बढ़ाने पर जोर

बैठक में किसानों की आय को दोगुना करने के लिए आरम्भ की गई नई योजना ‘महक’ के अंतर्गत सुगंधित पौधों तथा उनके प्रसंस्करण को प्रोत्साहित करने के लिए सहायता देने के दिशा निर्देशों को भी स्वीकृति प्रदान की।

जूनियर आफिसर एसिस्टेंट के 500 पद भरे जाएंगे

इसके अलावा हिमाचल प्रदेश सर्विस सलेक्शन कमीशन द्वारा 500 पोस्टें जूनियर आॅफिसर एसिस्टेंट की भरी जाएंगी, स्टेट ह्यूमन राइट्स डिपार्टमेंट में 42 पोस्टें भरी जाएंगी, नशा निवारण बोर्ड में एक पोस्ट बनाई जाएगी जो एडवाइजर की होगी, वहीं चंबा के लेच में खुलेगा प्राइमरी हेल्थ सेंटर खोला जाएगा और टांडा मेडिकल कालेज में दो पद भरे जाएंगे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।