डेरा श्रद्धालुओं ने आशियाना मुहिम के तहत जरूरतमंद परिवार को बनाकर दिया ‘आशियाना’

0

100 के करीब सेवादारों ने कुछ ही घंटों में मकान किया तैयार

बठिंडा/चुघ्घे कलां(सच कहूँ/मनजीत नरूआणा।)। डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां जी की पावन प्रेरणाओं पर चलते हुए ब्लॉक चुघ्घे कलां की साध-संगत की ओर से गांव भिसियाना में एक गरीब परिवार को कुछ घंटों में ही नया मकान बना कर दिया गया। जानकारी के अनुसार विजय कुमार अपनी बीमार पत्नी और लड़की के साथ किराये के मकान में रह रहा था। परिवार के पास मकान बनाने के लिए जगह तो थी परंतु पैसे नहीं थे। विजय कुमार गांव के ही स्कूल में ठेके पर माली की नौकरी करता है। विजय कुमार की ओर से जब मकान बनाने के लिए ब्लॉक चुघ्घे कलां के डेरा श्रद्धालुओं से बात की गई तो उन्होंने विजय कुमार की माली हालत को देखते हुए मकान बनाने का फैसला कर लिया। मकान बनाने के लिए ब्लॉक की पंद्रह मैंबर समिति के नेतृत्व में 100 के करीब शाह सतनाम जी ग्रीन एस वैल्लफेयर फोर्स विंग के सेवादारों की सहायता से कुछ घंटों में ही विजय कुमार के परिवार को एक पक्का नया घर बना कर दे दिया गया। इस मौके पंद्रह मैंबर अजय कुमार इन्सां ने जानकारी देते बताया कि इससे पहले भी साध-संगत की ओर से कई जरूरतमंद परिवारों को मकान बना कर दिए जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि डेरा सच्चा सौदा के सेवादारों की तरफ से पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां जी के नेतृत्व में पूरे विश्व में 134 मानवता भलाई के कार्य किये जा रहे हैं, उनमें से एक जरूरतमन्द परिवारों को मकान बना कर देना भी है। इस मौके पंजाब के 45 मैंबर बहन बिमला रानी बहमण दीवाना, गांव के सरपंच बसंत सिंह, ब्लाक के पंद्रह मैंबर जसपाल सिंह इन्सां, गुरमेल सिंह इन्सां, निर्मल सिंह इन्सां, अवतार इन्सां विर्क, अजयपाल इन्सां, जगप्रीत इन्सां बल्लूआना, सुजान बहन सीमा रानी नरूआना, सुखवीर कौर, रसप्रीत कौर, हरपाल कौर के अलावा बड़ी संख्या में शाह सतनाम जी ग्रीन एस वैल्लफेयर फोर्स विंग के सेवादार मौजूद थे।

मेरे से सारी उम्र पक्का मकान नहीं बनना था: विजय कुमार

विजय कुमार ने बताया कि यदि डेरा श्रद्धालु उसका मकान न बना कर देते तो उसका किराये के मकान में रहते सारी जिंदगी अपना पक्का मकान नहीं बनना था। विजय कुमार ने बताया कि उसने कभी सोचा भी नहीं था कि कुछ ही घंटों में ही उसे पक्का नया मकान नसीब हो जाएगा। उसने कहा कि मेरे पास कोई शब्द नहीं हैं, जिनसे मैं पूज्य गुरू जी व साध-संगत का धन्यवाद कर सकूं। विजय कुमार ने बताया कि डेरा श्रद्धालु उसके परिवार के लिए मसीहा बन कर पहुंचे हैं।

 

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।