दिल्ली एनसीआर

दीपावली को लेकर गुलजार हुए बाजार

नई दिल्ली। दीपावली को लेकर राजधानी दिल्ली के बाजार अभी से गुलजार हो गए हैं। सजावट का सामान, गिफ्ट आइटम, पूजा सामग्री, गणेश लक्ष्मी की मूर्तियां, दीये, पटाखों व बिजली की रंग बिरंगी लड़ियों से बाजार पट चुके हैं। आलम यह है कि जैसे-जैसे दीपावली के दिन नजदीक आते जा रहे हैं ज्यादा से ज्यादा लोग खरीदारी के लिए बाजारों का रुख कर रहे हैं। पुरानी दिल्ली के थोक बाजार जैसे कि सदर बाजार, चांदनी चौक, भगीरथ प्लेस, खारी बावली समेत कई बाजारों में खरीदारों की भीड़ उमड़ रही है। बाजारों में लक्ष्मी-गणेश की अलग-अलग तरह की मूर्तियां आई हैं। बाजार पत्थर से लेकर मेटल तक की मूर्तियां उपलब्ध हैं। आकार और बनावट के हिसाब से मूर्तियों की कीमत वसूली जा रही है।  किनारी बाजार में लक्ष्मी गणेश की कई आकर्षक मूर्तियां खरीदारों को लुभा रही हैं। लोग पीतल, चांदी और सोने की मूर्तियों से लेकर ईको फ्रेंड्ली गणेश लक्ष्मी की मूर्तियों की जमकर खरीदारी कर रहे हैं।
खासकर सदर बाजार और किनारी बाजार में सजावटी फूल, रंग-बिरंगी बेल और रंगोली बनाने की सामग्री बेचने वाली दुकानें में ग्राहकों की अच्छी खासी भीड़ देखने को मिल रही है। 150-450 रुपये दर्जन तक की फूलों की बेल बाजार में उपलब्ध हैं और साथ ही 50-500 तक के रंग-बिरंगे फूल खरीदारों के लिए उपलब्ध हैं। दीपावली के मौके पर गिफ्ट देने का भी चलन काफी बढ़ चुका है। दफ्तर के कर्मचारियों से लेकर रिश्तेदारों को गिफ्ट देने के लिए लोग बाजारों का रूख कर रहे हैं। ज्यादा मात्रा में सामान होने के कारण लोग सदर बाजार और भगीरथ प्लेस जैसे थोक बाजारों का रूख कर रहे हैं। यहां पर सैंकड़ों तरह के गिफ्ट आइटम उचित दामों पर उपलब्ध हैं। दुकानदारों के मुताबिक क्रॉकरी, शो पीस, फ्लावर वास जैसे उत्पादों की सबसे ज्यादा बिक्री हो रही है। इसके अलावा ग्राहक जूसर मिक्सर, सैंडविच मेकर, टोस्टर, ब्लेंडर जैसे इलेक्ट्रिकल उत्पादों की खरीदारी पर भी काफी खर्च कर रहे हैं। दीपावली रोशनी का त्योहार है, इसलिए लोग सबसे ज्यादा खर्च रंग-बिरंगी लाइटों पर करते हैं। लोगों को लुभाने के लिए बाजार में अलग-अलग रंग और अलग-अलग कीमत की लाइटें उपलब्ध हैं। बाजारों में चाइनीज आइटम भी उपलब्ध हैं।
सदर बाजार और भगीरथ प्लेस दुकानदारों ने बताया कि काफी लोग चाइनीज आइटम की जगह भारतीय लाइटों को तवज्जों दे रहे हैं। गुणवत्ता के आधार पर भी लोग बेहतर भारतीय सामान को खरीदना पसंद कर रहे हैं। अपने करीबियों को मिठाई के बजाय पर सूखे मेवे देने का चलन भी काफी बढ़ रहा है, जिसके चलते खारी बावली में लोग काफी संख्या में पहुंच रहे हैं। खारी बावली, फतेहपुरी मस्जिद व पीली कोठी जैसे इलाकों में ड्राई फ्रूट की दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ उमड़ रही है। ग्राहक से लेकर दुकानदारों में उत्साह नजर आ रहा है।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top