[horizontal_news id="1" scroll_speed="0.1" category="breaking-news"]
Breaking News

हाफिज सईद से जुड़े थे आतंकी मिंटू के तार

  • खुलासा। पुलिस पूछताछ में खुंखार आतंकी ने उगला पाकिस्तानी लश्कर के चीफ से मुलाकात का सच
  • आईएसआई के पैसे से जेल में कर रहा था मौज
  • नेपाल के रास्ते पाकिस्तान भागने की थी प्लानिंग

ChandiGarh, Anil Kakkar: नाभा जेल से गैंगस्टरों के संग फरार हुए खालिस्तान लिब्रेशन फोर्स के चीफ हरमिन्द्र सिंह मिंटू की गिरफ्तारी के बाद बड़े खुलासे सामने आ रहे हैं। पुलिस मिंटू से उसकी प्लानिंग सहित कई राज़ उगलवाने में लगी है। इंटेरोगेशन में मिंटू ने स्वीकार किया है कि वह पाकिस्तानी लश्कर के चीफ हाफिज सईद से मिल चुका है तथा वह खालिस्तान लिब्रेशन फोर्स के चीफ हरमिन्द्र सिंह मिंटू बीकेआई ( बब्बर खालसा इंटरनैशनल ) के चीफ वधावा सिंह बब्बर के संपर्क में था।
बता दें कि गत दिनों पंजाब की नाभा जेल से कथित तौर पर जेलकर्मियों की मिलीभगत से हरमिन्द्र सिंह मिंटू, परमिंद्र पिंदा, विक्की गौंडर सहित 2 अन्य गैंगस्टर अपने साथियों की मदद से फरार हो गए थे। इसके बाद पंजाब पुलिस एवं दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट आॅप्रेशन में मिंटू दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया गया जहां से वह गोवा वहां से नेपाल तथा फिर पाकिस्तान भागने की फिराक में था। जेल से भागने के बाद अपनी पहचान छुपाने के लिए मिंटू ने अपनी डाढ़ी कटवा ली थी। हालांकि पुलिस उसे पहचानने में कामयाब रही तथा उसे गिरफ्तार कर लिया गया। मिंटू से दिल्ली पुलिस के अलावा केन्द्र की एजेंसियां भी पूछताछ कर रही है। सूत्रों के अनुसार मिंटू ने बताया है कि वह 2014 में पकड़े जाने से पहले बीकेआई चीफ वधावा सिंह की कोठी वपरा टाउन में मिला था। वधावा सिंह और आईएसआई के कर्नल मजीद खान ने उसको लश्कर और खालिस्तानी आतंकियों में तालमेल करने का काम सौंपा था। नाभा जेल से निकलने के बाद मिंटू किसी तरह नेपाल पहुंच कर पाकिस्तान भागना चाहता था, जहां वह वधावा सिंह से मिलने की फिराक में था। बताया जा रहा है कि मिंटू जेल में तमाम सुविधाएं आईएसआई के पैसे से प्राप्त कर रहा था। मिंटू एक बड़ा रणनीतिकार था इसलिए आईएसआई उसे हर हाल में यहां से निकालना चाह रही थी। यहां से निकल कर वह नेपाल पहुंचता जहां उसे नया नाम तथा नया पासपोर्ट दिया जाता जिससे वह पाकिस्तान पहुंचने की फिराक में था। जेल में रहते हुए भी वह बड़े आतंकियों तथा आईएसआई के संपर्क में था। अब पुलिस यह जानने की कोशिश में लगी है कि मिंटू के संपर्क किस-किस से थे और उनका अगला प्लान क्या था।

बब्बर खालसा चीफ से होती थी बात
सूत्रों के अनुसार जेल से मिंटू कई बार बब्बर खालसा चीफ वधावा सिंह के साथ-साथ अन्य चरमपंथियों से भी अक्सर बात किया करता था। बता दें कि आतंकी मिंटू जब 2014 में पकड़ा गया था तब भी अमृतसर मे संयुक्त पूछताछ केन्द्र में हुई पूछताछ में भी उसने कई खुलासे किए थे, लेकिन इसके बावजूद उसको अन्य कैदियों के साथ रखा गया तथा उस पर विशेष तौर पर निगाह नहीं रखी गई।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top