[horizontal_news id="1" scroll_speed="0.1" category="breaking-news"]
पंजाब

नहीं बख्शा जाएगा किसी भी दोषी को, विजीलैंस जांच में होगी सख्त कार्रवाई: अमरेन्द्र

Scam, Strict Action, Investigation, Amarinder Singh, Navjot Singh Sidhu, Punjab

‘चाहे डीसी हो या फिर डीसीएम बख्शेंगे नहीं’

  • सुखबीर जिसे कहता था चाचू, उसने किया बड़ा घोटाला, होगी विजीलैंस जांच: सिद्धू
  • अबोहर वाटर वर्क्स की जमीन मामले में आया सुखबीर के चाचा परमजीत बादल का नाम

चंडीगढ़ (अश्वनी चावला)। ‘चाहे कोई डीसी हो या फिर डीसीएम (डिप्टी चीफ मनिस्टर) को बख्शेंगे नहीं’, क्योंकि सुखबीर बादल जिसे चाचू-चाचू कहता था उसे बादल गांव के परमजीत सिंह के नाम पर अबोहर वाटर वर्क्स की जमीन ट्रासर्फर होते हुए रजिस्ट्री हुई है। इस बड़े घोटाले का पर्दाफाश हर हाल में होगा। पंजाब विधानसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए यह शब्द कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कहे।

सवा छह एकड़ जमीन एक्वायर की

नवजोत सिंह सिद्धू ने इस मामले की जानकारी देते हुए सदन में कहा कि 1931 में अबोहर शहर में पानी की सप्लाई देने के लिए वाटर वर्क्स बनाया था, जिसे बड़ा करने के लिए 1961 में सवा 6 एकड़ जमीन ओर एक्वायर करके दी थी, लेकिन इस जमीन को गैर कानूनी तरीके से छह लोगों ने अपने नाम पर ट्रांसर्फर करवाते हुए रजिस्ट्री तक करवा ली।

सत्ता का फायदा उठाया

इनमें परमजीत सिंह पुत्र दिलराज सिंह निवासी गांव बादल जिला मुक्तसर भी शामिल है, जोकि रिश्तेदारी में सुखबीर बादल का चाचा व पूर्व मख्यमंत्री का भाई है। बाकी अबोहर के ही लोग हैं, जिन्होंने सत्ता का फायदा उठाते हुए जमीन अपने नाम करवा ली। नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि इस मामले में चाहे कोई उप-मुख्यमंत्री रहा हो या फिर कोई डीसी हो किसी को बख्शेंगे नहीं। प्रत्येक अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई होगी, जिन्होंने इस मामले में सहयोग दिया।

पहले मेरी किसी ने नहीं सुनी

यहीं एक सवाल करते हुए सुखजिन्द्र सिंह रंधावा ने कहा कि यह कोई नया मामला नहीं है। मैंने इस सवाल का जवाब 2016 में भी मांगा था व तत्कालीन मंत्री ने खुद स्वीकार किया था कि इस मामले में बड़ा घोटाला हुआ है लेकिन यदि मुख्यमंत्री आदेश दें तो विजीलैंस जांच करवाई जा सकती है। इस पर बादल साहब ने भरे मन से कहा था कि यदि मुख्यमंत्री साहब चाहते हैं तो विजीलैंस जांच करवा लें। उन्होंने कहा कि इस मामले मे डेढ़ साल के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई।

इस जमीन घोटाले को लेकर हंगामे में मुख्यमंत्री अमरेन्द्र सिंह ने सदन में भरोसा दिया कि वह अवश्य विजीलैंस जांच करवाएंगे व किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा।

विधान सभा सैशन की समाप्ति के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए सिद्घू ने कहा कि अकाली दल की ओर से अपने कार्यकाल दौरान किए गए घपलों के कारण अब वे सदन से बाहर लोगों तथा सदन के भीतर सरकार का सामना नहीं कर सकते जिस के कारण अकाली दल के विधायक बिना किसी मुद्दे पर बहाना बना कर सदन से वाक आउट कर रहे है। उन्होंने कहा कि साबका उपमुख्यमंत्री को पता था कि आज अबोहर वाटर वकर्स की जगह पर उनके रिश्तेदार की ओर से कब्जे संबंधी विधान सभा में सवाल लगा है इस लिए वे आज जानबूझ कर गैर हाजर रहे।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top