Breaking News

जिसके विचार काबू वही सबसे सुखी

#Gurmeetramrahim #derasachasauda #Religion #Spirituality #Meditation #MethodOfMeditation

सरसा (सकब)। पूज्य हजूर पिता संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां फरमाते हैं कि मालिक ने इन्सान को सर्वश्रेष्ठ, अति उत्तम इसलिए बनाया है कि इन्सान चौरासी लाख जन्म-मरण के चक्कर से, आवागमन से आजाद हो जाए। इस संसार में रहता हुआ इन्सान मालिक की दया-मेहर, रहमत के काबिल बन कर प्रभु के दर्शन कर सके, लेकिन काल ने दो शक्तियां मन और माया इन्सान के अंदर ऐसी फिट कर दी जिससे जीव भटककर मालिक से दूर हो जाता है।

माइंड में अच्छे, भले विचार भी आते हैं

आप जी फरमाते हैं कि आदमी का मन शैतान का घर है, मन और माइंड एक नहीं हैं। माइंड में अच्छे, भले विचार भी आते हैं, लेकिन हमारे धर्मों के अनुसार मन ऐसी ताकत, शक्ति है जो इन्सान को सिर्फ बुरे विचार, ख्यालात ही देता है। दिमाग में जो अच्छे विचार आते हैं उन्हें आत्मा, रूह या जमीर की आवाज कहा जाता है। तो भाई! प्रभु, मालिक की भक्ति में इन्सान का मन सबसे बड़ी रूकावट है।

निंदा करो, चुगली करो, दूसरों की बुराइयां गाओ तो मन बड़ा खुश रहता है। घड़ी की तरफ कभी निगाह भी नहीं मारने देता और यह भी पता नहीं चलता कि टाइम पास कैसे हो गया। आप जी फरमाते हैं कि चुगली, निंदा, हर धर्म में महापाप है। मन इन्सान को झांसे देता रहता है कि तूने कमाल कर दिया, तेरे जैसा समझदार, चतुर-चालाक तो दुनिया में कोई नहीं है। इन्सान मन के अधीन होकर इतना ऊपर उठ जाता है कि वह अपने सतगुरु के वचन भी भूल जाता है।

मन जालिम जागते-सोते कहीं भी नहीं छोड़ता है

इन्सान पूरी तैयारी के साथ सुमिरन करने बैठता है, लेकिन मन ऐसा भरमाता है कि उसे दुनियादारी में घुमाकर रख देता है। इस घोर कलियुग में अगर इन्सान आधा घण्टा सच्ची तड़प से, सच्ची लगन से सुमिरन में लगाए तो हो नहीं सकता कि उसे उसका फल न मिले। आप जी फरमाते हैं कि मान-बड़ाई वाले भक्ति में कभी कामयाब नहीं हो सकते, रूहानियत में चरम सीमा तक नहीं पहुंच सकते। इन्सान चलते-चलते सुमिरन कर रहा होता है।

रास्ते में कोई तिनका आ गया तो मन उसके बारे में ख्याल दे देगा कि देखो यह घास का तिनका है क्योंकि आप सुमिरन कर रहे हैं, उधर से आपका ध्यान भटकाना है। यह मन जालिम जागते-सोते कहीं भी नहीं छोड़ता है। दुनिया में सबसे चंचल आदमी का मन है। मन सैकेंड के कुछ हिस्से में आपको आसमान में ले जाएगा और अगले हिस्से में पाताल में घुसा देगा। इस जालिम का कोई भरोसा ही नहीं है। मन से, अपने बुरे विचारों से लड़ना अति जरूरी है।

आपके अंदर जो बुरी सोच आती है तो गैरत, हिम्मत के साथ उसका सामना करो। अगर आप अपने बुरे विचारों पर काबू पा लेंगे तो दुनिया में आप सबसे सुखी होंगे।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top