पंजाब

स्कूलों में नहीं बिजली, बच्चों की छुट्टियां

School, Electricity, Children's, Holidays, Punjab

बिजली न आने से परेशान लोगों ने बिजली बोर्ड के बाहर लगाया धरना

अबोहर(सचकहूँ/सुधीर अरोड़ा)। गत दिनों आई भारी बरसात के बाद से गहराए बिजली संकट के कारण भीषण गर्मी से परेशान क्षेत्र के दर्जन भर लोगों ने श्रीगंगानगर रोड पर स्थित बिजली घर में धरना लगाते हुए पंजाब सरकार एवं बिजली बोर्ड के अधिकारियों को कोसते हुए प्रदर्शन किया। धरने पर बैठे अशोक गर्ग, कमल खुराना, दीपक खुराना, संजय रेहिला, रमेश सोनी, सुरेन्द्र फुटेला, रणवीर आदि बताया कि 10 दिन पूर्व आए तुफान व बारिश के बाद क्षेत्र की बिजली व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है, जिस कारण क्षेत्रवासी पेरशान है।

बिजली के आने जाने का कोई पक्का शडयूल नहीं है, मनमर्जी से ही बिजली काट ली जाती है और मनमर्जी से बिजली आ जाती है। उन्होंने कहा कि 24 घटों में बिजली मात्र 3-4 घंटे ही रहती है। रोष जता रहे लोगों ने कहा कि एक तो गर्मी से जनता बेहाल है वहीं दूसरी तरफ ये बिजली के कटों ने जनता का जीना मुहाल कर रखा है। शहर के साथ साथ गांवों में भी बिजली का बुरा हाल है पूरी पूरी रात बिजली नहीं आती जिसके चलते क्या बच्चे क्या बूढे सभी की मच्छर के कारण रातों की नींद उड़ चुकी है। उन्होंने कहा कि बिजली की नियमित सप्लाई न रहने से पेयजल सप्लाई भी बाधित होती है। शिकायत करने पर बिजली कर्मी टालमटोल करते रहते हैं।

बिजली बोर्ड के एक्सईएन ने लोगों को शुक्रवार तक संयम रखने का किया आग्रह

धरने पर बैठे लोगों ने कहा कि विभाग द्वारा उन्हें षड्यूल बताए जाए कि किस समय बिजली रहेगी, अन्यथा वह अपने संघर्ष को तेज करेंगे। उधर, बिजली बोर्ड के एक्सईएन ने लोगों को शुक्रवार तक संयम रखने का आग्रह किया है। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों आए तूफान एवं बारिश के चलते मुक्तसर क्षेत्र के 5 बिजली के टावर गिर गए थे, हालांकि अब तक उक्त टावरों में चार टावरों को खड़ा कर दिया गया है और शुक्रवार तक बिजली व्यवस्था सुचारू ढंग से चलेगी। तब तक उन्होंने लोगों से बिजली बोर्ड का सहयोग करने की अपील की है।

समस्या का हल करने में जुटा जिला प्रशासन

उन्होंने कहा कि जब कभी भी बिजली छोड़ी जाती है तो वहां के लोग कम से कम लोड डालने में हमारी मदद करें। यानि कि घर में मात्र एक ए.सी या पंखा और ट्यूब चलाएं। क्योंकि आप की ओर से जैसे ही लोड डाला जाता है, तब हालात आउट आॅफ कंट्रोल हो जाती है जिसके चलते हमें बिजली बंद करनी पड़ती है। गर्मी को देखते हुए कई प्राईवेट स्कूलों में आधे दिन की छुट्टी कर दी गई तथा स्कूलों 15 जुलाई तक अवकाश की घोषणा कर दी गई है। इधर सरकारी प्राईमरी स्कूलों में बच्चों की हालत खराब चल रही है। प्रशासन भी इस समस्या का हल निकालने का प्रयास कर रहा है।

3-4 रूपये बिकने वाली बर्फ आज 15 रूपये किलो के हिसाब से बिक रही

इधर भीषण गर्मी के चलते बर्फ वाले भी चांदी कूट रहे हैं। कुछ दिनों तक 3-4 रूपये बिकने वाली बर्फ आज 15 रूपये किलो के हिसाब से लाईनों में लग कर खरीदने पड़ रही है। इनवर्टर बिजली न आने के कारण फैल हो गये हैं जबकि शहर में जरनैटर किराये पर भी नहीं मिल रहे हैं।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top