सत्संग

राम-नाम से कंकड़ में बदल जाते हैं पहाड़ जैसे कर्म : पूज्य गुरू जी

RUHANI SATSUNG

सरसा (सुरेन्द्र शर्मा/ सुनील वर्मा)। RUHANI SATSUNG इस कलियुग के समय में मन-इन्द्रियां बड़े फैलाव पर है, इन्सान सोचता कुछ और है करता कुछ और है। कई बार अन्दर कुछ और चल रहा होता है तथा बाहर कुछ और चल रहा होता है। यह दोगला पन की बात, दोगलापन की नीति कलियुग की नीति है। वर्तमान में यह बात आम-सी हो गई है और अधिकतर लोग इसी का अनुसरण किए जा रहे है। मन का काम सब्जबाग दिखाना है, मालिक से दूर लेकर जाना है।

उक्त अनमोल वचन पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने रविवार को शाह सतनाम जी धाम में आयोजित रुहानी सत्संग के दौरान फरमाए। इस अवसर पर पूज्य गुरु जी ने 2275 नए लोगों को गुरु मंत्र की अनमोल दात प्रदान कर मोक्षमुक्ति का अधिकारी बनया। रूहानी सत्संग के दौरान हजारों श्रद्धालुओं ने रूहानी जाम ‘जाम-ए-इन्सां’ ग्रहण कर इन्सानियत के रास्ते पर चलने का संकल्प लिया।

RUHANI SATSUNG चारों तरफ फैली हुई नैगेटिवीटी

रूहानी सत्संग के दौरान पूज्य गुरू जी ने फरमया कि इन्सान को अन्दर से जो गलत विचार देता है, नैगेटिव विचार देता है, उसे मन कहते है। बुरे ख्यालात आते है उसे मन की ही सोच कहा जाता है। और जो पोजिटिव व अच्छे विचार आते है उसे आत्मा की सोच या आत्मा के विचार कहते है। इस कलियुग में नैगेटिवीटी चारों तरफ फैली हुई है। नैगेटिव विचार पहले आते है। पोजिटिव विचार जल्दी से आने का नाम ही नहीं लेते। यह कलियुग का समय है और यहां मन का बोलबाला है। मन कभी भी किसी को अच्छे विचार आने नहीं देता। हर समय बुरी सोच, हर समय बुरे विचार इन्सान के अन्दर चलते रहते है। उसी वजह से इन्सान परेशान, टैंशन व दु:खी रहता है।

अब तक छह करोड़ ले चुके हैं गुरमंत्र

आप जी ने फरमाया कि राम-नाम का निरन्तर जाप करने से आने वाली पहाड़ जैसी बीमारियां कंकर में बदल जाती है। 6 करोड़ से अधिक लोग गुरुमंत्र ले चुके है और उनमें से करोड़ों लोग इस अनुभव के बारे में बताते रहते है। दिन-रात मालिक के नाम का जाप करने से चौथे स्टेज तक का कैंसर भी खत्म हो जाता है।

अच्छाई की तरफ सोेचें RUHANI SATSUNG

आप जी ने फरमाया कि आदमी के दिमाग की शक्ति जबरदस्त होती है। दिमाग का 5 से 15 प्रतिशत का प्रयोग करने से ही कम्प्यूटर, सुपर कम्प्यूटर, मिसाईल, दुनियां के खात्मे का सामान बन गया। अगर इसी दिमाग का 50 प्रतिशत तक प्रयोग इन्सान कर लेता है तो जिन्दगी जीने का बहुत ही आसान और बहुत ही आरामदायक पहलु सामने आ जाता है। हर कोई जिन्दगी आराम से खुशी-खुशी व्यतीत कर सकता है और बेगम हो जाए। यह तभी संभव है जब ग्राफ 50 प्रतिशत तक पोजिटिव वे में जाए यानि अच्छाई की तरफ सोेचें। आप जी ने फरमयाया कि यह तभी संभव है जब आत्मबल बढ़ेगा, विल पॉवर बढ़ेगी। क्योंकि विल पॉवर व आत्मबल इन्सान के अंदर होता है। इसे बाहर से खरीदा नहीं जा सकता।

सुमिरन करने से बढ़ेगा आत्मबल

आत्मबल केवल प्रभु के नाम के सुमिरन से पाया जा सकता है। सभी इन्सानों के अंदर विल पॉवर व मार्इंड की सौ प्रतिशत पॉवर है। आत्मबल बढ़ने से इन्सान के अंदर सोचने-समझने की शक्ति बढ़ती है। इसलिए जरुरी है कि इन्सान नियम बनाकर सुबह-शाम ईश्वर की याद में समय जरुर लगाए।

आप जी ने फरमया कि सभी धर्मों का सत्कार करना इन्सान का फर्ज है, लेकिन अगर धर्मों से फल लेना चाहते हो, खुशी लेना चाहते तो उसके अनुसार चलो। इसके बाद रिजल्ट सौ प्रतिशत जरुर मिलेगा। इन्सान सुखी रह सकता है, इन्सान नेगेटिव विचार को खत्म कर सकता है, अगर वह सुमिरन और सेवा करें। अगर बुरे विचार आ जाते हैं तो उन पर अमल न करो और पांच मिनट सुमिरन करने से उन बुरे विचारों का फल नहीं भोगना पड़ेगा।

RUHANI SATSUNG आज बनावटीपन की बिमारी हावी

पूज्य गुरु जी ने फरमया कि सबसे ज्यादा नैगेटिविटी का शिकार वहीं लोग होते है, जिनके अन्दर ऐसे बुरे विचार आते रहते है। कई बार इन्सान जैसा अन्दर से होता है वह बाहर वैसा दिखता नहीं है। लोगों को आज बनावटीपन की बिमारी लगी हुई है। इन्सान के अन्दर जो चलता है वह ही उसे खुशी और टैंशन देता है।

आप जी ने फरमाया कि नैगेटिव विचारों से छुटकारा पाने के लिए निरंतर प्रभु के नाम का जाप करे। प्रभु के नाम का जाप करने से इन्सान में विल पॉवर आएगी, आत्मबल बढ़ेगा, जिससे नैगेटिव विचार खत्म हो जाएंगे और पोजिटिव विचार आने शुरू हो जाएंगे। वहीं सत्संग की समाप्ति पर डेरा सच्चा सौदा की मर्यादा के अनुसार एक युगल दिलजोड माला पहनाकर परिणसूत्र में बधा।

जरूरतमंद के ईलाज हेतु दी एक लाख की आर्थिक मदद

सरसा। शाह सतनाम जी धाम में आयोजित रूहानी सत्संग के दौरान पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने शाह सतनाम जी ग्रीन एस वैल्फेयर फोर्स विंग के भलाई फंड खाते से पंजाब के लुधियाना निवासी दर्शन चंद इन्सां को उसके बेटे के ईलाज के लिए एक लाख रुपये का चैक प्रदान किया।

बता दें कि प्रत्येक खुशी के अवसर पर स्वयं पूज्य गुरु जी, आदरणीय शाही परिवार और देश-विदेश की साध-संगत अपनी मेहनत की नेक कमाई में से जरूरतमंदों की मदद के लिए शाह सतनाम जी ग्रीन एस वेल्फेयर फोर्स विंग के खाते में पैसा जमा करवाती है, ताकि मुश्किल में फंसे लोगों की मदद हो सके।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top