राजस्थान

शराब ठेका न हटाए जाने से फूटा गुस्सा

Rajasthan, Protest, Womens, Liquor Station

महिलाओं का हंगामा, अधिकारी की मेज का शीशा तोड़ा

आबकारी अधिकारी का किया घेराव

हनुमानगढ़ (सच कहूँ न्यूज)। शराब ठेका न हटाए जाने से आक्रोशित महिलाओं ने बुधवार को टाउन स्थित जिला आबकारी अधिकारी कार्यालय में जमकर हंगामा किया। पहले कार्यालय घेरा व बाद में पहुंचे आबकारी अधिकारी का घेराव किया। सुनवाई न होने से गुस्साई महिलाओं ने आबकारी अधिकारी की मेज का शीशा तोड़ दिया। हालात बेकाबू होते देख मौके पर टाउन थाने का जाब्ता मौके पर पहुंचा तथा आक्रोशित महिलाओं से समझाइश की।

बुधवार सुबह करीब 11 बजे भारत की जनवादी नौजवान सभा के बैनर तले महिलाएं आबकारी अधिकारी कार्यालय में एकत्रित हुई तथा कार्यालय का घेराव करते हुए विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। महिलाओं ने टाउन के वार्ड 37, गांव मैनावाली व मेहरवाला में स्थापित शराब की दुकानें हटाने की मांग की। उस समय आबकारी अधिकारी कार्यालय में नहीं थे। आक्रोशित महिलाएं कार्यालय में धरना लगाकर बैठ गई।

पियक्कड़ शराब के नशे में करते है हंगामा

सभा में वक्ताओं ने आरोप लगाया कि आबकारी विभाग की मिलीभगती से जिले में जगह-जगह शराब की ब्रांचें चल रही हैं। शराब ठेकेदारों के लिए समय निर्धारण कोई मायने नहीं रखता। जब मांगो शराब उपलब्ध करवा दी जाती है। पियक्कड़ शराब के नशे में मोहल्ले व गांवों में हुड़दंग मचाते हैं। सबसे ज्यादा परेशानी महिलाओं को होती है। यही नहीं अवैध नशा भी बिक रहा है।

डीवाईएफआई के प्रदेशाध्यक्ष जगजीत सिंह जग्गी ने कहा कि गांव मेहरवाला में पिछले वर्ष भी आबादी क्षेत्र में शराब ठेका खोलने को आबकारी विभाग ने स्वीकृति दे दी। उस समय ग्रामीणों ने विरोध किया तो अधिकारियों ने आगामी वर्ष से यहां से शराब ठेका हटाने का आश्वासन दिया था। लेकिन फिर भी पुन: वहीं ठेका खोलने को मंजूरी दे दी। पूरा दिन गांव की महिलाओं का आना-जाना रहता है। शराबी प्रवृत्ति के लोगों की हरकतों के कारण उन्हें शर्मसार होना पड़ता है। सूचना मिलने पर टाउन थाने के एसआई अनिल कुमार, एएसआई करतार सिंह, रामभज व विकास मय जाब्ता मौके पर पहुंचे।

पांच दिन में कार्रवाई का आश्वासन

करीब एक घण्टे बाद आबकारी अधिकारी फतेह मोहम्मद खान कार्यालय आए तो महिलाओं ने उन्हें घेर लिया। कार्यालय में कुर्सी पर बैठे आबकारी अधिकारी के चारों तरफ महिलाएं खड़ी हो गई तथा जमकर नारेबाजी की। इसी दौरान एक आक्रोशित महिला ने आबकारी अधिकारी की मेज का शीशा तोड़ दिया।

करीब एक बजे तक हंगामा होता रहा। आबकारी अधिकारी की ओर से पांच दिन में उचित कार्रवाई का आश्वासन दिए जाने पर महिलाएं शांत हुई। डीवाईएफआई के प्रदेशाध्यक्ष जग्गी ने कहा कि अगर जल्द समस्या का समाधान नहीं हुआ तो चार मई को कार्यालय के समक्ष अनिश्चितकालीन पड़ाव शुरू किया जाएगा। घेराव-प्रदर्शन में श्यामदास, बिन्दू, रामप्रताप, ओम परिहार, जितेन्द्र, सूरज, भगवानाराम, मदनलाल, आरती देवी, विद्या, मैनपाल, बंटीदास, प्रमोद, राजेश, भजनलाल आदि शामिल थे।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top