राजस्थान

मिलेगा रबी 15-16 का फसल बीमा

Demand, Raised, Indian Kisan Sangh, Punjab

बीमित किसानों के लिए राहत की खबर

हनुमानगढ़ (सच कहूँ न्यूज)। जिले के किसानों के लिए राहत की खबर है।

संशोधित राष्ट्रीय फसल बीमा योजना के तहत रबी 15-16 के चना, जौ, सरसों एवं गेहूं में हुए नुकसान के लिए जिले के 38637 बीमित किसानों को 40 करोड़ 65 लाख 23 हजार 758 रुपए फसल बीमा क्लेम मिलेगा।

इसमें से भादरा तहसील के 20 हजार 142 बीमित किसानों को 26 करोड़ 69 लाख 3586 रुपए फसल बीमा क्लेम मिलेगा।

जिसमें से 25 करोड़ 49 लाख 70 हजार 675 रुपए बीमा क्लेम 16 हजार 525 चना उत्पादक किसानों को मिलेगा।

नोहर तहसील में 4 करोड़ 63 लाख 33 हजार 670 रुपए बीमा क्लेम 6821 किसानों को, हनुमानगढ़ तहसील में 4 करोड़ 12 लाख 90 हजार 393 रुपए 2 हजार 48 किसानों को, पीलीबंगा तहसील में 6 करोड़ 46 लाख 4 हजार 167 रुपए 338 किसानों को, रावतसर तहसील में 3 करोड़ 69 लाख 66 हजार 600 रुपए 6132 किसानों को, संगरिया तहसील में 54 लाख 16 हजार 221 रुपए 1979 किसानों को, टिब्बी तहसील में 31 लाख 49 हजार 118 रुपए 1177 किसानों को मिलेगा।

फसल बीमा क्लेम की गणना में पटवार सर्किल को इकाई मानने के कारण किसानों को ओलावृष्टि के नुकसान का बीमा क्लेम नहीं मिला।

सौंपे ज्ञापन, नहीं बनी बात

प्रो. जांगू ने बताया कि खेती बचाओ किसान बचाओ मोर्चा ने 19 जनवरी 2016 को गोगामेड़ी आगमन पर मुख्यमंत्री को मिलकर बीमा क्लेम दिलवाने की मांग की।

27 जुलाई 2016 को कृषि मंत्री एवं 13 अक्टूबर 2016 को जिला प्रभारी मंत्री को मोर्चा ने ज्ञापन देकर बीमा क्लेम की मांग की, परन्तु आज तक क्लेम का भुगतान नहीं हुआ है।

प्रो. जांगू ने बताया कि कपास का बीमा क्लेम 107 करोड़ के आसपास बनता है।

फसल बीमा क्लेम नहीं दिलाने का आरोप

खेती बचाओ किसान बचाओ मोर्चा के प्रवक्ता प्रो ओम जांगू ने किसान के खेत को फसल बीमा के लिए इकाई मानने की मांग केन्द्र सरकार से की है।

प्रो. जांगू ने राज्य सरकार पर खरीफ 15 में कपास का फसल बीमा क्लेम नहीं दिलवाने का आरोप लगाते हुए कहा कि खरीफ 15 में कपास का बीमा क्लेम जिला प्रशासन की ओर से क्रॉप कटिंग नहीं कराने के कारण नहीं मिला।

संशोधित राष्ट्रीय फसल बीमा योजना

रबी 15-16 के चना, जौ, सरसों एवं गेहूं में हुए नुकसान के लिए जिले के 38637 बीमित किसानों को 40 करोड़ 65 लाख 23 हजार 758 रुपए फसल बीमा क्लेम मिलेगा।

किसान हितों की अनदेखी कर रही सरकार

प्रो. ओम जांगू ने बताया कि रबी 15-16 के लिये जारी चना जौ, सरसों व गेहूं की क्लेम राशि बहुत ही कम है।

बारानी क्षेत्र में चना की फसल पूर्णतया चौपट हो गई, फिर भी बहुत कम क्षेत्र में किसानों को मामूली क्लेम दिया गया है।

इसी तरह संगरिया, हनुमानगढ़, टिब्बी तहसील में ओलावृष्टि से भारी नुकसान हुआ है।

जिला प्रशासन ने संगरिया, हनुमानगढ़ व टिब्बी तहसील में खराबा आंकलित कर मुआवजा की अभिशंषा की है।

यह मुआवजा भी राज्य सरकार ने अभी किसानों को नहीं दिया है तथा इस क्षेत्र में बीमा क्लेम की गणना भी सही नहीं की है।

उन्होंने ओलावृष्टि से हुए नुकसान के मुआवजे के भुगतान की मांग के साथ ही फसल बीमा क्लेम की सही गणना कर किसानों को पर्याप्त फसल बीमा क्लेम देने की मांग की।

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top