सम्पादकीय

प्रवासियों की मुश्किलें

Migrant People

Migrant People विश्व में प्रवास के लिए सबसे ज्यादा आकर्षण का केंद्र रहे अमेरिका ने एच-1बी वीजा के नियम सख्त कर इंजीनियरिंग की महारत रखने वाले प्रवासियों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। विशेष तौर पर भारत के बड़ी संख्या में इंजीनियर अमेरिका में रोजगार प्राप्त करते रहे हैं।

भारत हर वर्ष करीब 100 अरब डॉलर की सॉफ्टवेयर निर्यात कर रहा है। अमेरिकी आव्रजन सख्ती से कुल वीजा का 86 प्रतिशत वीजा प्राप्त करने वाले भारतीयों की गिनती घटकर 60 प्रतिशत तक रह सकती है। नई प्रतिभाओं को बेहद मुश्किलों का सामना करना होगा। इसी तरह अमेरिकी लोगों को रोजगार की पहल देने पर अमेरिकी वस्तुओं की खरीद पर बल दिया जा रहा है।

Migrant People दरअसल डोनाल्ड ट्रंप ने चुनावों से पूर्व ही यह तय कर लिया था कि ट्रंप गैर-अमेरिकी नागरिकों के लिए अवसर घटाने की मुहिम चलाएंगे। इस फैसले से भारत की आईटी कंपनियों की मुश्किलें बढ़ेंगी। प्रवास रोकने के लिए केवल अमेरिका ही एकमात्र देश नहीं, बल्कि आस्ट्रेलिया ने 457 केटेगरी वीजा समाप्त कर दिया है।

इससे आॅस्ट्रेलिया में अस्थायी तौर पर रह रहे प्रवासियों की छुट्टी तय है। 457 वीजा के तहत सबसे ज्यादा गिनती में भारतीय लोग रह रहे हैं। उधर न्यूजीलैंड भी वीजा नियम पर सख्ती बरतने जा रहा है। यह घटनाचक्र विदेशों में पैसा कमाने की योजना बना रहे लोगों के लिए बेहद चौंकाने वाला है।

Migrant People इन हालातों में धोखेबाजों व फर्जी एजेंटों से जागरूक रहने की जरूरत है। युवा इस बात पर बल दें कि देश में रहकर मेहनत कर कमाई की जा सकती है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के इस सिद्धांत में वजन है कि रोजगार तलाशने की बजाए रोजगार बनाने का यत्न करें।

हमारे देश में ऐसे हजारों युवा हैं जिन्होंने विदेश जाने या सरकारी नौकरी ढूंढने की बजाए केवल रोजगार ही पैदा नहीं किया, बल्कि लाखों अन्य व्यक्तियों को रोजगार मुहैया करवाया। 50-60 हजार रूपए निवेश करने वाले व्यापारी आज करोड़ों रूपए का कारोबार कर रहे हैं। केंद्र सरकार ने मेक इन इंडिया मुहिम में उचित कदम उठाया है।

Migrant People इस क्षेत्र में भारत ने विदेशी निवेश प्राप्त करने के लिए चीन को पछाड़ दिया है। भारत में रोजगार की अपार संभावनाएं है। विदेश जाने के चाहवानों को आत्मविश्वास व मेहनत से काम करने की आवश्यकता है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top