हरियाणा

किसानों की मौत पर सियासी संग्राम जारी

Political, War, Farmers, Death, Train, Strike, Raised, Congress

प्रदेशभर में किए जा रहे प्रदर्शन, हिसार में किसान एक्सपे्रस रोकने का प्रयास

  • मृतक किसानों को शहीद का दर्जा व एक-एक करोड़ देने की मांग

हिसार/ उकलाना (सच कहूँ न्यूज)। मध्यप्रदेश में पुलिस की गोली से हुई 6 किसानों की मौत के बाद शुरू प्रदेशभर में शुरू हुई सियासत थमने का नाम नहीं ले रही है। राज्य में कहीं कांग्रेस कार्यकर्ता रेलगाड़ियां रोककर प्रदर्शन कर रहे हैं तो कहीं किसानों को भड़काकर प्रदर्शन कराया जा रहा है।

शनिवार को फिर हिसार व उकलाना में युवा कांग्रेस के नेताआें व कार्यकर्ताआें ने हिसार रेलवे स्टेशन पहुंचकर भठिंडा से दिल्ली जाने वाली किसान एक्सपे्रस को रोकने का प्रयास किया। इस दौरान हिसार की प्रभारी एवं हरियाणा युवा कांग्रेस की प्रदेश महासचिव बिनो रानी मुख्य रूप से उपस्थित रही।

रेवले स्टेशन पर कांग्रेस कार्यकर्ताआें का नेतृत्व आदमपुर के हलकाध्यक्ष संजय लोरा ने किया। उधर किसानों पर हुई गोलीबारी के विरोध में युवा कांग्रेस हलका उकलाना के कार्यकर्ता हलकाध्यक्ष मीनू लितानी के नेतृत्व में किसान विश्राम गृह में एकत्रित हुए। कार्यकर्ताओं ने किसानों की मौत पर रोष जताया।

लितानी ने कहा कि किसानों को न्याय के लिए सड़कों पर आना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि युवा कांग्रेस की मांग है कि मृतक किसानों को शहीद का दर्जा देकर उनके परिजनों को सरकारी नौकरी और एक-एक करोड़ रुपए का मुआवजा दिया जाए।

इंतजार करते रहे कांग्रेसी, नहीं आई ट्रेन

इधर उकलाना में भी युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता हलकाध्यक्ष मीनू लितानी के नेतृत्व में नगर के बाजारों में विरोध प्रदर्शन करते हुए रेलवे स्टेशन पर पहुंचे। यहां पर कार्यकर्ताओं ने केंद्र व मध्यप्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उन्होंने मांगों का एक ज्ञापन राष्टÑपति के नाम डीएसपी जयपाल सिंह को सौंपा।

युवा कांग्रेस कार्यकर्ता किसानों के समर्थन में रेल रोको अभियान के तहत उकलाना रेलवे स्टेशन पर पहुंचे। काफी देर तक उन्होंने हिसार-लुधियाना रेलवे मार्ग पर रेलगाड़ी आने का इंतजार किया लेकिन रेलगाड़ी नहीं आई।

सुरक्षा व्यवस्था के लिए भारी पुलिस बल तैनात

युवा कांग्रेस द्वारा उकलाना रेलवे स्टेशन पर रेल रोकने की घोषणा के बाद रेलवे स्टेशन पर भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात कर दिया गया था। प्रशासन को प्रयास था कि यहां पर किसी भी सुरत में रेलगाड़ी न रोकी जाए।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top