पंजाब

डॉक्टर की गिरफ्तारी का विरोध, ओपीडी रही बंद

Doctor, Fetal Screening, Accused, Haryana police, Investigation

समर्थन में उतरे निजी अस्पताल, बताया बेकसूर

सोमवार को राजस्थान पुलिस ने किया था गिरफ्तार
पुलिस ने सादुलशहर अदालत में किया पेश

श्री मुक्तसर साहिब (सच कहूँ न्यूज)। श्रीगंगानगर पुलिस की ओर से श्री मुक्तसर साहिब में सोमवार की शाम को बठिंडा रोड स्थित बांबे स्कैन सेंटर के संचालक रेडियोलॉजिस्ट डॉ. शाम सुंदर गोयल को लिंग जांच करने के आरोप में गिरफ्तार कर राजस्थान ले जाने के विरोध में मंगलवार को शहर भर के तमाम निजी अस्पतालों में शाम तक ओपीडी बंद रही।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने राजस्थान पुलिस की जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग को बिना बताए की गई इस कार्रवाई को धक्केशाही तथा गिरफ्तार किए गए डॉ. शाम सुंदर को पूरी तरह से बेकसूर करार दिया है। जहां शहर के सभी निजी अस्पतालों में ओपीडी बंद रखी गई, वहीं दो दर्जन से अधिक डॉक्टर डॉ. शाम सुंदर के समर्थन में श्रीगंगानगर भी पहुंचे। निजी अस्पतालों में ओपीडी बंद रहने से शहर के मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ा। कुछ लोगों को शहर से बाहर भी इलाज के लिए जाना पड़ा।

झूठा फंसाया जा रहा है

आईएमए के अध्यक्ष डॉ. सुरिंदर अरोड़ा ने बताया कि शहर के सभी डॉक्टर मंगलवार को श्रीगंगानगर में डॉ. शाम सुंदर गोयल से मिले हैं। डॉ. शाम सुंदर पूरी तरह से बेकसूर हैं। एक स्कैन करने के लिए जिन डॉक्यूमेंट्स की जरूरत होती है, वह सब लेने और रजिस्टर में दर्ज करने के बाद ही डॉ. शाम सुंदर ने स्कैन किया था। उन्होंने पेट में पल रहे बच्चे के लिंग के बारे में भी किसी को कुछ नहीं बताया। लेकिन जो दलाल लोग उस महिला को लेकर पहुंचे थे उन्होंने ही पुलिस को झूठ बोलकर डॉ. शाम सुंदर को फंसाया है।

सिविल सर्जन को सौंपा ज्ञापन

उधर, आईएमए की ओर से डॉ. सुधीर राज, डॉ. एमएम बांसल, डॉ. आशवानी, डॉ. करनैल सिंह, डॉ. बलविंदर सिंह, डॉ. गगनदीप गोयल, डॉ. राकेश कुमार, डॉ. अरुण जैन आदि ने सिविल सर्जन डॉ. हरी नारायण सिंह को ज्ञापन सौंपकर राजस्थान पुलिस की ओर से लोकल अथॉरिटी को साथ लिए बिना की गई कार्रवाई की कड़ी आलोचना की।

डॉक्टर को न्यायिक हिरासत में भेजा

श्रीगंगानगर पुलिस ने डॉ. शाम सुंदर गोयल को मंगलवार की सुबह सादुलशहर स्थित अदालत में पेश किया जहां अदालत ने उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया। हालांकि परिजनों की ओर से अदालत में डॉ. शाम सुंदर गोयल की जमानत के लिए अर्जी भी लगाई गई थी, लेकिन अदालत ने उसे मंजूर नहीं किया।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top