Breaking News

कश्मीरी छात्र भी भारतीय नागरिक : राजनाथ

Kashmiri Students, Indian Citizens, Rajnath Singh

सेना पर पत्थरबाजी के विरोध में मेरठ और चितौड़गढ़ में कश्मीरी छात्रों पर हमला

राज्यों को कड़ी सुरक्षा मुहैया करवाने के निर्देश

मेरठ/चित्तौड़गढ़। कश्मीरी युवाओं द्वारा सेना पर पत्थरबाजी को लेकर देशभर में तीखी प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है। राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में मेवाड़ यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले कश्मीरी विद्यार्थियों के साथ कुछ स्थानीय लोगों ने मारपीट की, जिसमें 6 कश्मीरी घायल हो गए। दूसरी ओर यूपी के मेरठ में कश्मीरी विद्यार्थियों के बहिष्कार करने का ऐलान किया गया है। पोस्टर लगाकर कश्मीरियों को मेरठ छोड़ने की चेतावनी दी गई है।

गृह मंत्रालय ने मामले को गंभीरता से लेते हुए राज्यों को कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा है। गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को अडवाइजरी जारी कर कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि उन्होंने राज्यों को निर्देश दिया है कि कोई भी कश्मीरी बच्चों के साथ कहीं बदसलूकी करता है तो उस पर कड़ी कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि कश्मीरी भी भारत के ही नागरिक हैं।

कश्मीरी बच्चों के साथ कहीं बदसलूकी करता है तो उस पर कड़ी कार्रवाई की जाए

उत्तर प्रदेश नव निर्माण सेना नाम के एक संगठन की तरफ से मेरठ-देहारादून हाइवे पर बड़े-बड़े होर्डिंग लगाए गए हैं। इनमें यूपी में रह रहे कश्मीरियों को प्रदेश छोड़कर जाने की चेतावनी दी गई है। साथ ही 30 अप्रैल के बाद यूपी में कश्मीरियों के खिलाफ हल्ला बोलने को कहा गया है।

संगठन की इस हरकत के बाद खुफिया विभाग और शैक्षणिक संस्थान अलर्ट हो गए हैं। उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना की तरफ से कहा गया कि पढ़ाई करने आए युवाओं में वे लोग भी होंगे, जिनके परिवार के लोग कश्मीर में सेना का विरोध करते हैं। जब यहां उनके परिवार के लोगों को परेशानी होगी, तभी कश्मीर में पत्थरबाजी करने वालों को सबक मिलेगा।’ इस कदम के बाद खुफिया विभाग अलर्ट हो गया। साथ ही कश्मीरियों की सुरक्षा कड़ी करने की सिफारिश की गई है।

एग्जाम के समय नहीं चाहते कि मामला तूल पकड़े

दूसरी तरफ राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में बुधवार को उस समय माहौल तनाव भरा हो गया था, जब मेवाड़ यूनिवर्सिटी के कुछ छात्रों और स्थानीय लोगों में संघर्ष हो गया। कश्मीर में सुरक्षा बलों पर पत्थरबाजी और बडगाम में सीआरपीएफ जवानों के साथ बदसलूकी के हाल में वायरल हुए वीडियो को लेकर कथित तौर पर कश्मीरी छात्रों को ‘पत्थरबाज’ कहे जाने के बाद यह संघर्ष हुआ। कश्मीरी छात्रों की तरफ से दर्ज कराई गई एफआईआर में कहा गया है कि वे खरीदारी के लिए निकले थे, तभी एक अज्ञात शख्स ने उन पर कुछ टिप्पणियां की।

छात्रों के मुताबिक वे एग्जाम के समय नहीं चाहते कि मामला तूल पकड़े। एक कश्मीरी छात्र ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा, ‘हम कुछ सामान खरीदने गए थे। उसी दौरान कुछ युवाओं ने हमें पकड़ लिया और सीआरपीएफ जवानों के साथ बदसलूकी के लिए हमें जिम्मेदार ठहराने लगे। उन्होंने बिना किसी वजह के हमें पीटना शुरू कर दिया। इस पूरे घटनाक्रम से हमारा पूरा दिन उस वक्त बर्बाद हो गया जब हम परीक्षाओं की तैयारी में जुटे थे।’

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top