Breaking News

जानिए किस थीम पर आधारित है रिलीज़ होने से पहले ही हिट हुई जट्टू इंजीनियर

करनाल, 6 मई। 19 मई को रिलीज होने वाली अपनी पांचवी फिल्म जट्टू इंजीनियर के बारे में बताते हुए पूज्य गुरुजी ने स्वच्छ भारत थीम पर आधारित यह फिल्म पूरी तरह कॉमेडी फिल्म है। फिल्म में दिखाया गया है कि कैसे बहुत गंदा गांव कैसे आत्मनिर्भर बन जाता है। फिल्म को सैंसर बोर्ड ने यू सर्टीफिकेट दिया है तथा इस फिल्म में अभद्र मजाक नहीं है तथा इसे पिता पुत्री भी साथ बैठकर देख सकते हैं। फिल्म में उनका डबल रोल है। फिल्म में हरियाणा, हिन्दी, पंजाबी, बिहारी इत्यादि भाषाएं बोलने वाले लोग हैं जो गांव में रहते हैं। उन्होंने कहा कि उनकी कोशिश है कि फिल्मों के द्वारा समाज भी सुधरे और स्वस्थ मनोरंजन भी हो।

 

* मुख्यमंत्री ने पूज्य गुरुजी की 19 मई को रिलीज होने वाली फिल्म जट्टू इंजीनियर का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने फिल्म के बारे में काफी सुना है तथा इस फिल्म को वे हरियाणा में छह महीने के लिए टैक्स फ्री करने की घोषणा करते हैं।

* गांव व शहरों में स्वच्छता व विकास का संदेश देने वाली फिल्म जट्टू इंजीनियर को हरियाणा में छह माह के लिए टैक्स फ्री करने पर पूज्य गुरुजी ने मुख्यमंत्री का धन्यवाद किया।

* सफाई महाअभियान में भाग लेने आए लोगों ने पूज्य गुरुजी की आने वाली फिल्म जट्टू इंजीनियर के पोस्टरों वाली ड्रेसें पहनी हुई थी, जोकि लोगों के आकर्षण का केंद्र थी।

* पूज्य गुरुजी की आने वाली फिल्म जट्टू इंजीनियर को लेकर भी जबरदस्त क्रेज देखने को मिला, शहर में जगह जगह लगाए गए स्वच्छता अभियान के होर्डिंग्स में पूज्य गुरुजी जट्टू इंजीनियर के गेटअप में नजर आ रहे थे, जो लोगों में चर्चा का विषय बने हुए थे।

* करीब 4 साल बाद ऐतिहासिक नगरी करनाल में एक बार फिर से स्वच्छता का महाकुंभ लगा, जिसमें भाग लेने के लिए हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, उत्तरप्रदेश व अन्य राज्यों से लाखों श्रद्धालु पहुंचे। श्रद्धालुओं में महिलाएं, पुरूष, बच्चे, युवा, बुजुर्ग सभी उम्र के लोग शामिल थे तथा सभी का सफाई अभियान को लेकर उत्साह देखते ही बनता था। वर्णनीय है कि इससे पहले 24 मार्च 2013 को करनाल में सफाई महाअभियान हुआ था, जिसमें करीब 3 लाख सेवादारों ने अढ़ाई घंटे में पूरे करनाल शहर को गंदगीमुक्त कर दिया था।

5 लाख सेवादार, 2 घंटे… और निखरी सीएम सिटी

* सफाई महाअभियान को लेकर करनाल शहर को 4 जोनों में बांटा गया था तथा विभिन्न राज्यों के सेवादारों की अलग अलग जोनों में डयूटियां लगाई गई थी। सेवादार सीधे अपने अपने जोनों में पहुंचे और सेवा कार्यों में जुट गए। हालांकि करनाल शहर स्वच्छता की दृष्टि से साफ सुथरा दिखाई दे रहा था परंतु सेवादारों ने अनथक मेहनत से गली मोहल्लों में से गंदगी के ढेर निकाल दिए।

 

लोकप्रिय न्यूज़

To Top