हरियाणा

जाटों का धरना समाप्त, अब 26 अप्रैल का इंतजार

Jat, Strike, Over, Jat Reservation, Haryana

 धरना स्थलों से अभी नहीं हटेंगे तंबू व मंच

झज्जर,(संजय भाटिया)। प्रदेश सरकार द्वारा जाटों की मांगों को लेकर की गई मीटिंग में सहमति हो जाने के कारण सोमवार को जाट आरक्षण संघर्ष समिति की अगुवाई में राशलवाला चौंक पर चल रहे धरने को प्रदर्शनकारियों ने बॉय बॉय कह दिया। लेकिन इस दौरान यह भी स्पष्ट किया गया कि बगैर भीड़ के भी सरकार द्वारा मांगे गए समयानुसार धरना स्थल की तस्वीर पहले जैसी ही बनी रहेगी।

 मांगों का लिखित आश्वासन पर होगा धरने का पूर्ण समापन

जब तक सरकार द्वारा पूर्ण रूप से लिखित में मांग पत्र को मंजूरी नहीं दी जाती, धरना स्थल की कमेटी द्वारा देख-रेख जारी रहेगी। हालांकि सरकार द्वारा मांगें मान ली गई हैं, जिसको लिखित रूप देने के लिए 26 अप्रैल का समय निश्चित किया गया है। सारी कागज कार्यवाही उक्त स्थल से ही आगे बढ़ाई जाएगी। ये बातें राशलवाला चौंक पर जाट धरने को संबोधित करते हुए मलिक ने कही। वहीं धरना स्थल पर पहुंचे आरक्षण समिति के राष्ट्रीय  महासचिव अशोक बल्हारा ने कहा कि सरकार अगर भविष्य में सरकार उनके साथ किसी प्रकार का छल करती है तो वे और ताकत दिखाने के लिए भी मजबूर होंगे।

सभी बिरादरियों ने दिया साथ, धन्यवाद: जाट नेता

सरकार द्वारा लिए गए फैसले के बाद सोमवार को धरना स्थल पर सोमवार दोपहर तक लगातार भीड़ बढ़ती रही। करीब साढे 12 बजे धरना स्थल जाट एकता के नारों से गूंज पड़ा। जाट वक्ताओं ने जाट बिरादरी के अलावा अपनी इस जीत में अन्य सभी बिरादरियों का भी धन्यवाद किया और कहा कि अब की बार सभी बिरादरियों से साथ होने के कारण उन्हें अपना हक मिला है।

अब धरने पर बैठने की जरूरत नहीं

जाट नेताओं ने धरने के संबोधन में कहा कि अब हमें अपनी ताकत का अंदाजा हो गया है। अब सरकार से किसी बात को मनवाने के लिए धरने करने की जरूरत नहीं है, बल्कि इसके लिए सरकार को 24 घंटे का समय देते हुए तैयारियां करो और दिल्ली के लिए कूच कर दो।

 26 के बाद होगा पूर्ण रूप से धरना खत्म

नेताओं ने कहा कि सरकार द्वारा उनकी मांगों को पूर्ण रूप देने के लिए डेढ़ महीने का समय मांगा गया है तब तक सभी लोग अपने घर जाकर खेती बाड़ी का काम संभल सकते हैं। अब धरना स्थल पर भीड़ दिखाने की जरूरत नहीं है। लेकिन 26 अप्रैल तक धरना स्थल पर लगा टैंट व अन्य व्यव्स्थाएं जैसी की तैसी ही बनी रहेंगी। सरकार द्वारा मांगों को लिखित में पूर्ण रूप मिलते ही धरने को भी पूर्ण रूप से गुड बॉय कह दिया जाएगा।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top