पंजाब

पुलिस काम में नहीं चलेगी राजनेताओं की धौंस

Captain Government

मुक्तसर के पत्रकार को सुरक्षा देने के आदेश

चंडीगढ़ (सच कहूँ न्यूज)। Captain Government मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पुलिस के काम में बाधा डालने वाले राजनेताओं को सख्त चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि यदि किसी नेता ने पुलिस के काम में दखलअंदाजी की तो उसे सहन नहीं किया जाएगा। साथ ही उन्होंने सभी विभागों को भी अपनी ड्यूटी के दौरान सियासी दबाव के आगे ना झुकने का कठोर संदेश दिया।

Captain Government कानून अनुसार कार्रवाई का दिया भरोसा

मुख्यमंत्री ने मुक्तसर के एक पत्रकार पर कथित हमले की घटना को गंभीरता से लेते हुए संबंधित अधिकारियों को यह मामला केवल मैरिट को आधार बनाकर निपटाने के आदेश देते हुए कहा कि बिना किसी सियासी प्रभाव से न्याय मुहैया करवाने को यकीनी बनाया जाए। यह जानकारी मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने दी। ठुकराल ने बताया कि उन्होंने संबंधित पत्रकार से बात करके बता दिया है कि मुख्यमंत्री ने भरोसा दिया है कि इस मामले में कानून अपना कार्य करेगा और निष्पक्ष जांच द्वारा आरोपियों विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी।

Captain Government अस्पताल में फ्री इलाज

मुख्यमंत्री ने राज्य के पुलिस प्रमुख को पत्रकार द्वारा अपने परिवार की सुरक्षा संबंधी व्यक्त की आशंका के मद्देनजर पत्रकार एवं उसके परिवार को सुरक्षा मुहैया करवाने के आदेश दिए। पत्रकार को स्थानीय सरकारी अस्पताल में निशुल्क ईलाज भी मुहैया करवाया जा रहा है।

अकालियों के पट्ठों को चेतावनी

मुख्यमंत्री ने स्पष्ट शब्दों में चेतावनी देते हुए कहा कि सियासी नेताओं के इशारे पर काम करने वाले अधिकारी जैसे कि वह अकाली दल की सरकार के दौरान करते थे, ने यदि अपना यह ढंग ना बदला ना बदला तो उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जायेगी।

Captain Government घोषणा पर ध्यान केंद्रित

पुलिस को लिखित रूप में कठोर संदेश देते हुए मुख्यमंत्री ने सीनियर अधिकारियों को यह संदेश पुलिस विभाग के निम्न स्तर तक पहुंचाने को यकीनी बनाने के निर्देश दिए ताकि कांग्रेस द्वारा चुनाव घोषणा पत्र में किये वायदे अनुसार पुलिस के कामकाज को और अधिक पारदर्शी बनाया जा सके।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस सरकार, सरकारी मशीनरी को सियासी बेड़ियों से मुक्त करने के लिये पूरी तरह वचनबद्ध है जोकि अकाली-भाजपा सरकार के शासन के दौरान नियम ही बन गया था। उन्होंने कहा कि गत बादल सरकार ने राज्य में समूचे ढांचे को तहस-नहर कर दिया था जिसको बहाल करने की कार्रवाई आरंभ की गई है और इसके संपूर्ण परिवर्तन के लिये सरकारी मशीनरी एवं राज्य के लोगों के संयुक्त एवं ठोस प्रयासों की आवश्यकता है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top