हरियाणा

गर्मी की तपिश से झुलसा हरियाणा , आज बारिश के आसार

Heat, Haryana, Rain 

किसानों की मुश्किलें भी लगातार बढ़ती जा रही

सच कहूँ-देवीलाल बारना कुरुक्षेत्र। गर्मी की तपिश से पूरा हरियाणा झुलश रहा है। चिपचिपी गर्मी और उमश से जन जीवन पसीना-पसीना हो रहा है। प्रभावित जन जीवन का प्रतिकूल असर भी रोजमर्रा की जिंदगी पर देखने को मिल रहा है। प्रदेश के सभी इलाकों में तेज गर्मी और उमस की वजह से तामपान में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है, जिस वजह से लोगों के पसीने छूट रहे हैं। पिछले कई दिनों से लगातार तापमान में बढ़ोत्तरी होने की वजह से लोगों का हाल-बेहाल हो रहा है।

जिन इलाकों में बहुत कम बारिश हुई है वहां पर गर्मी का प्रकोप भी ज्यादा बढ़ रहा है

मनुष्य ही क्या भीषण गर्मी का असर अन्य प्राणियों पर भी देखने को मिल रहा है। प्रदेश में जिन इलाकों में बहुत कम बारिश हुई है वहां पर गर्मी का प्रकोप भी ज्यादा बढ़ रहा है, जिससे किसानों की मुश्किलें भी लगातार बढ़ती जा रही है। ऐसे में सूखे खेतों को बारिश की दरकार है। हालांकि पिछले दिनों धान रोपाई के समय अच्छी बरसात हुई थी, लेकिन धान के सूखते खेतों में बारिश होने से मायूस किसानों के चेहरों पर भी रोनक देखने को मिल सकेगी।

हो सकती है आज भी बरसात

झुलसा देने वाली गर्मी के बीच मौसम विभाग की पूर्व अनुमान की सूचना राहत भरी खबर लेकर आई है। मौसम विभाग के अनुसार उमस और बढ़ती गर्मी से जल्द ही लोगों को राहत मिलने वाली है। 10 जून को दोपहर और रात के समय प्रदेश के कई इलाकों में बारिश होने की आशंका है। मौसम विभाग के मुताबिक 10 जुलाई की रात को प्रदेश में मानसून फिर से सक्रिय हो जाएगा और प्रदेश में बारिश होगी। प्रदेश में 11 जुलाई से लेकर 14 जुलाई तक अच्छी बारिश होने की संभावना है।

इन जिलों में सबसे कम बारिश

प्रदेश के तीन ऐसे जिले भी हैं जहां पर अभी तक 50 एमएम से भी कम बारिश हुई है, ऐसे जिलों में फतेहाबाद, पानीपत और सोनीपत है। यहां पर किसानों के भी पसीने छूट रहे हैं, क्योंकि कम बारिश की वजह से फसलें खराब हो रही है। इसके अलावा करनाल में इस बार सबसे ज्यादा बारिश हुई है। वहीं करनाल के अलावा झज्जर, रेवाड़ी, रोहतक, अंबाला, कुरुक्षेत्र, सिरसा, मेवात, यमुनानगर में 100 एमएम से भी ज्यादा बारिश हो चुकी है। प्रदेश में राजस्थान से सटे इलाकों में अभी तक कम बारिश है, औसतन हर बार ही इन इलाकों में कम बारिश होती है, लेकिन इस बार औसत से भी कम बारिश हुई है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top