पंजाब

रिश्वत मांगने वाले चार पुलिस कर्मचारी निलंबित

Policemen, Suspended, Bribe, Strict Action, Punjab

भ्रष्टाचार के मामले को रफा-दफा करने के लिए मांगते थे रिश्वत

चंडीगढ़ (सच कहूँ न्यूज)। पंजाब विजीलेंंस ब्यूरो ने सरकारी कार्यालयों में फैले भ्रष्टाचार विरूद्ध अभियान शुरू किया हुआ है वहीं ब्यूरो में तैनात अधिकारियों एवं कर्मचारियों के कामकाज पर भी निगाह रखते हुए रिश्वतखोर कर्मचारियों खिलाफ कठोर कार्रवाई अमल में लाई गई है जिसके तहत शुक्रवार को एक इंस्पेक्टर, दो हवलदार व एक सिपाही को निलंबित कर उनके खिलाफ विभागीय जांच शुरू कर दी है।
है।

डेढ़ लाख की रिश्वत मांगी

विजिलैंस ब्यूरो के मुख्य निदेशक-कम-एडीजीपी वीके उप्पल आईपीएस के बताया कि वन विभाग फिरोजपुर के पूर्व सुपरीडैंट सहिजता राम खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों संबधी गत वर्ष अक्तूबर महीने विजिलेंस के थाना फिरोजपुर में मामला नम्बर 15 दर्ज किया गया था। उसने लिखित शिकायत में आरोप लगाया था कि ब्यूरो के फिरोजपुर रेंज में तैनात चार कर्मचारियों ने उससे डेढ़ लाख रुपए यह कहकर ले लिये कि वह उसके केस में तरफदारी करते हुए अदालत में मुकदमे की खारिज रिपोर्ट भेज देंगे।

शिकायतकर्ता द्वारा लगाये गये आरोपों की जांच के पश्चात इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह, हवलदार चरण सिंह व सतनाम सिंह सहित सिपाही नवजीत सिंह को तुंरत प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है और विभागीय पड़ताल भी आंरभ कर दी है। विजिलैंस ब्यूरो फिरोजपुर रेंज के एसएसपी को भी इस मामले की ओर गहराई से जांच करने के लिए कहा गया है। ताकि और तथ्य सामने आ सकें।

पहले इन पर गिरी गाज

गत महीने श्री मुक्तसर साहिब में विजिलेंंस ब्यूरो यूनिट में तैनात इंस्पैक्टर प्रेम नाथ को भी उसके संदेह पूर्ण किरदार के आधार पर निलंबित कर दिया गया था।

जनता सहयोग करे

उप्पल ने आम लोगों व ईमानदार सरकारी अधिकारियों को कहा कि वह भ्रष्टाचार विरूद्ध विजिलैंस द्वारा चलाई मुहिम को सफल बनाने के लिए डटकर साथ दें।

यदि कोई अधिकारी या कर्मचारी कार्य के बदले रिश्वत मांगता है तो वह ब्यूरो के टोल फ्री हैल्पलाईन नंबर 1800-1800-1000 पर शिकायत दर्ज करवाएं।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top