फीचर्स

अनफिट रिश्तों को करें फिट

Family Tips, Hindi, Unfit, RelationShip, Fit, Family

Family Tips | क्या है वजह और क्यों बदल रही है हमारी प्राथमिकता?

यह बात सही है कि फिट रहना आज की जरूरत बन गई है। ऐसे में हर कोई फिटनेस कॉन्शियस हो गया है। खुद को फिट रखना अच्छी बात है, इससे हम एनर्जेटिक फील करते हैं। दरअसल, हर फील्ड में प्रेजेंटेबल दिखना भी प्रोफेशन में आगे बढ़ने के लिए जरूरी हो गया है। (Family Tips)

यही वजह है कि चाहे स्त्री हो या पुरुष, वो हर तरह से परफेक्ट नजर आना चाहता है। जिमिंग, वॉकिंग, योग या एक्सरसाइज करके या फिर स्विमिंग व डान्सिंग क्लास जॉइन करके बिजी लोग भी फिटनेस के लिए टाइम निकालते ही हैं।

डायट कॉन्शियस |  Family Tips

डायट कॉन्शियस भी हो गए हैं हम। अपने डायट में क्या रखना है, क्या कम करना है, इसके लिए भी अलग से समय निकालते हैं।

कहने का मतलब यह है कि पूरी तरह से हमने अपने रूटीन को चेंज किया है अपनी फिटनेस या अपनी जरूरतों के लिए। यहां सबसे बड़ा सवाल यह है कि जितना ख़्याल हम अपनी फिटनेस का रखते हैं आजकल, क्या अपने रिश्तों के प्रति भी उतने ही सजग व संवेदनशील हैं? जितना समय हम अपनी जिमिंग या स्विमिंग के लिए निकालते हैं, क्या अपने रिश्तों के लिए निकालते हैं? अगर शरीर में थोड़ा-सा भी फैट्स बढ़ जाता है, तो हम अपना डायट कंट्रोल करते हैं, लेकिन यदि रिश्तों में दूरियां आने लगती हैं, तो शायद हमें एहसास तक नहीं होता।

अपनी फिटनेस भी हम दूसरों के लिए बनाते हैं। समाज को, दुनिया को, दोस्तों को दिखाने के लिए या बाहरी दुनिया में, सोशल मीडिया में लोगों के बीच वाहवाही लूटने के लिए या उन्हें आकर्षित करने के लिए हम अपने लुक्स व बॉडी के प्रति बहुत कॉन्शियस हो जाते हैं, लेकिन क्या किसी अपने के लिए हम ऐसा करते हैं? पति यदि पत्नी से कहे कि वजन थोड़ा कम कर लो या फिर पत्नी अपने पति से कहे कि थोड़ा फिटनेस पर ध्यान दो, तो हम उसे कैजुअली लेते हैं, लगभग नजरअंदाज कर देते हैं या फिर ताना दे देते हैं कि अब तो तुम्हें मुझमें कमी ही नजर आएगी लेकिन यही बात अगर कोई कलीग या दोस्त कहे, तो हम तुरंत सतर्क हो जाते हैं।

जिंदगी में सबसे पहले एडजस्टमेंट जरुरी | Family Tips

अपनी फिटनेस को हम जितना अधिक गंभीरता से लेने लगे हैं, उतनी ही लापरवाही हम अपने रिश्तों में करने लगे हैं। पत्नी, पैरेंट्स या बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम बिताने का समय नहीं होता, क्योंकि हम बिजी होते हैं, लेकिन अपनी हॉबीज या फिर जिमिंग के लिए हम जैसे-तैसे समय निकाल ही लेते हैं।

अगर जिंदगी में सबसे पहले कहीं हमें एडजेस्ट करना होगा, तो रिश्तों को ही दांव पर लगाया जाएगा। बच्चों की पिकनिक, उनके स्कूल की मीटिंग या पत्नी की रोजमर्रा की जरूरतें तो ताउम्र चलती रहेंगी, लेकिन हमारा जिम या हमारी हॉबी क्लास फिलहाल हमारी प्राथमिकता है।

Family Tips | तो फिर कैसे अनफिट हुए रिश्ते?

इन बातों का रखें ध्यान

फिटनेस न सिर्फ बाहरी अपीरियंस के लिए, बल्कि कंप्लीट हेल्थ के लिए भी बेहद जरूरी है।

हमारा उद्देश्य बस यही है कि ये फिटनेस सिर्फ आपके शरीर तक ही सीमित न रहकर, आपके रिश्तों को भी छुए। तो अगली बार जब जॉगिंग करें, तो जीवनसाथी या फिर पूरी फैमिली को भी मोटिवेट करें। उन्हें भी अपने साथ हॉबी क्लास की आदत डलवाएं, ताकि आप उनके साथ समय भी बिता सकें और फिटनेस का भी मजा ले सकें।

जब कभी रिश्तों को आपकी जरूरत पड़े, तो उन्हें प्राथमिकता दें, अगर कहीं एडजेस्टमेंट या कॉम्प्रोमाइज करना हो, तो अपनी हॉबी या फिटनेस क्लास को तवज्जो देने की बजाय रिश्तों को अहमियत दें। आपस में एक साथ बैठकर सबके लिए डायट चार्ट प्लान करें।

एक-दूसरे को मोटिवेट करें, हेल्दी चैलेंजेस दें और जो चैलेंज जीते, उसके लिए ईनाम भी रखें।

इन तमाम छोटी-छोटी कोशिशों से आप तो फिट रहेंगे ही, आपके रिश्ते भी अनफिट नहीं होेंगे।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top