Breaking News

फ्रांस में इमैनुएल मैक्रोन बने सबसे युवा राष्ट्रपति

Emmanuel Macron, Youngest, President, France, Congratulations, Election

मैक्रोन ने अपनी धुर दक्षिणपंथी प्रतिद्वंद्वी मैरीन ले पेन को 34 के मुकाबले 66 प्रतिशत वोटों से हराया

पेरिस (एजेंसी)। फ्रांस में मध्यमार्गी इमैनुएल मैक्रोन अपने प्रतिद्वंद्वी मैरीन ले पेन को भारी मतों से हराकर देश के सबसे युवा राष्ट्रपति बन गए हैं। स्थानीय मीडिया में जारी खबरों के मुताबिक मैक्रोन ने अपनी धुर दक्षिणपंथी प्रतिद्वंद्वी मैरीन ले पेन को 34 के मुकाबले 66 प्रतिशत वोटों से हरा दिया। मतगणना सोमवार सुबह समाप्त हुई।

ली पेन ने मैक्रोन को दी बधाई

39 साल के इमैनुएल मैक्रोन उदारवादी विचारधारा के नेता माने जाते हैं, जो व्यवसायियों और यूरोपीय संघ के समर्थक हैं तो वहीं मैरीन ले पेन फ्रांस पहले और आव्रजन विरोधी कार्यक्रम की समर्थक हैं। चुनाव में मैक्रोन का अर्थव्यवस्था को नियंत्रण मुक्त करना तथा यूरोपीय संघ के एकीकरण को तेज करने पर जोर था जबकि इसके विपरीत नेशनल फ्रंट की उम्मीदवार सुश्री पेन यूरोपीय संघ विरोधी और आव्रजन विरोधी थीं। मैक्रोन के सामने कई चुनौतियां भी हैं। उनकी पार्टी एन मार्शे के पास संसद में एक भी सीट नहीं है। राष्ट्रपति चुनाव के बाद अगले महीने ही संसदीय चुनाव होने हैं। एन. मार्शे को चुनाव लड़ना होगा, लेकिन मैक्रोन को अपनी स्थिति मज़बूत करने के लिए गठबंधन का सहारा भी लेना पड़ सकता है। चुनाव परिणामों के पहले रूझान के बाद ही 48 साल की ली पेन ने मैक्रोन को बधाई दे दी थी।

राष्ट्रपति चुनाव जीतकर रचा  एक नया इतिहास

यूरोप की राजनीति में वर्ष 2017 पूरी तरह भूचाल लेकर आया है, जहां एक तरफ ब्रिटेन ने यूरोपियन संघ से अलग होने के लिए वोट किया तो वहीं दूसरी तरफ अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप ने नया राष्ट्रपति बनकर सभी को चौंका दिया और अब फ्रांस में उदारवारदी नेता इमैनुएल मैक्रोन ने राष्ट्रपति चुनाव जीतकर एक नया इतिहास रच दिया है। राजनीतिक जानकारों का मानना है कि मैक्रोन एक ऐसे व्यक्ति की कहानी जिसे तीन साल पहले फ्रांस के लोग जानते तक नहीं थे। केवल आत्मविश्वास, ऊर्जा और लोगों से जुड़ाव की बदौलत मैक्रोन ने एक ऐसा राजनीतिक आंदोलन खड़ा किया, जिसने फ्रांस की सभी स्थापित राजनीतिक पार्टियों को धराशायी कर दिया।

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मैक्रोन को फ्रांस का राष्ट्रपति चुने जाने पर दी बधाई

अप्रैल 2016 में एन. मार्शे आंदोलन से मैक्रोन चर्चा में आए। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तरह ही कम समय में राष्ट्रपति चुनाव जीतकर उन्होंने एक नया इतिहास रच दिया है। उनकी इस शानदार उपलब्धि पर विश्व ने उन्हें बधाई दी है। जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने फोन पर मैक्रोन को फ्रांस का राष्ट्रपति चुनाव जीतने पर बधाई दी और कहा कि उनकी सफलता एक मज़बूत और एकीकृत यूरोप की जीत है।

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मैक्रोन को फ्रांस का राष्ट्रपति चुने जाने पर बधाई दी है और उम्मीद जताई है कि उनके कार्यकाल में फ्रांस-भारत संबंध और मजबूत होंगे। मोदी ने ट्वीट  किया, ‘राष्ट्रपति चुनाव में प्रभावी जीत दर्ज करने पर आपको बधाई। भारत और फ्रांस के बीच संबंधों को और मजबूत करने के लिए मैं आपके साथ मिलकर काम करने के लिए उत्सुक हूँ।’

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भी मैक्रोन को फ्रांस का राष्ट्रपति चुने जाने पर बधाई दी और कहा कि चीन फ्रांस के साथ अपने संबंधों को और मजबूत बनाने का इच्छुक है। चीन की सरकारी संवाद समिति शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार जिनपिंग ने कहा कि चीन व्यापक चीन-फ्रांस रणनीतिक साझेदारी को उच्च स्तर पर ले जाने के लिए फ्रांस के साथ मिलकर काम करना चाहता है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top