[horizontal_news id="1" scroll_speed="0.1" category="breaking-news"]
हरियाणा

1.33 लाख युवाओं का होगा स्किल डेवलपमेंट

Develop Skill, Youth, Employment, Scheme, CM, Haryana

योजना। प्रदेश के पांच जिलों में सक्षम कौशल प्रमाणन कार्यक्रम की शुरूआत

फरीदाबाद(सच कहूँ न्यूज)। प्रदेश सरकार इस वर्ष में एक लाख युवाओं को रोजगारपरक बनाने का लक्ष्य रखा है ताकि वे अपने आपको हुनरमंद बनाकर अपना व देश तथा प्रदेश के विकास में भागीदार बन सकें। फरीदाबाद स्थित वाईएमसीए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय ने सक्षम कौशल प्रमाणन कार्यक्रम की शुरूआत की है और यह प्रशिक्षण अब गुरुग्राम, फरीदाबाद, कुरुक्षेत्र, हिसार, रोहतक और रेवाड़ी में शुरू किया जा रहा है।

वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीएम ने किया शुभारंभ

मुख्यमंत्री मनोहर लाल शनिवार को यहां वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर वाईएमसीए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, फरीदाबाद में सक्षम कौशल प्रमाणन कार्यक्रम का शुभारंभ करने के दौरान उपस्थित प्रशिक्षणार्थियों को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय और वाईएमसीए विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में शुरू किया जा रहा है और राज्य सरकार की सक्षम युवा योजना का भाग है।

विजन-2030 तैयार, 18 लाख को रोजगार का लक्ष्य

मुख्यमंत्री ने विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर उपस्थित प्रशिक्षणार्थियों को बधाई देते हुए कहा कि संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्यों तथा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 15 वर्षीय विजन के आधार पर हरियाणा विजन-2030 तैयार किया गया है। विजन के तहत दस लाख करोड़ रुपए के निवेश को आकर्षित करना, 18 लाख रोजगार के अवसर पैदा करना तथा पांच लाख लोगों का कौशल विकास करना शामिल है।

2016-17 में 69 हजार युवा हुए प्रशिक्षित

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2016-17 में संबंधित विभागों तथा हरियाणा कौशल विकास मिशन द्वारा 69 हजार युवाओं को विभिन्न क्षेत्रों में प्रशिक्षण दिया गया है और वर्ष 2017-18 के दोरान एक लाख 33 हजार युवाओं को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि युवाओं के कौशल विकास के लिए सरकार ने हरियाणा कौशल विकास मिशन बनाया है।

हर साल 1.85 लाख नए युवा भटकते हैं रोजगार की तलाश में

सीएम ने कहा कि प्रदेश में प्रत्येक वर्ष चार लाख युवा शिक्षा प्राप्त करने के पश्चात रोजगार के लिए आते हैं और इनमें से दो लाख युवा अपने स्तर पर ही रोजगार व स्वरोजगार प्राप्त कर लेते हैं और 10 से 15 हजार युवाओं को सरकारी सेवा में जाने का मौका मिल पाता है लेकिन शेष युवाओं को रोजगार देने के लिए सक्षम योजना के तहत कौशल विकास करना उपयोगी होगा।


Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top