राज्य

डेंगू से दहल रहा उत्तर प्रदेश

लखनऊ(एजेंसी)। डेंगू के प्रकोप के चलते उत्तर प्रदेश सरकार ने चिकित्सकों की छुट्टियां रद्द करने के बाद नगर निकायों के कर्मचारियों की भी छुट्टियां रद्द कर दी हैं। एक अधिकारी ने बताया कि ऐसा स्वच्छता अभियान में तेजी लाने और डेंगू फैलने से रोकने के लिए फॉगिंग कराने के मद्देनजर किया गया है।
मुख्य सचिव राहुल भटनागर ने सरकारी अस्पतालों में फीवर हेल्थ डेस्क स्थापित करने और इन्हें मरीजों का सही मार्गदर्शन कर मुफ्त में इलाज करने का निर्देश दिया है। उन्होंने डेंगू प्रभावित स्थानीय इलाकों की पहचान करने और हर सप्ताह अनिवार्य रूप से तीन से चार बार लार्वा रोधी स्प्रे और फॉगिंग करने के लिए कहा है।
डेंगू से सिर्फ लखनऊ में अब तक 200 लोगों की मौत
बताया गया है कि नगर निगम अधिनियम के तहत 2000 लोगों को पानी की साफ-सफाई नहीं करने पर चेतावनी जारी की है। कहा जा रहा है कि डेंगू के चलते राज्य की राजधानी लखनऊ में ही 200 लोगों की मौत हो चुकी है और मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने डेंगू की रोकथाम में लापरवाही के चलते उत्तर प्रदेश सरकार को लताड़ लगाई थी, जिसके बाद सरकार ने वेक्टर जनित बीमारी के कारण किसी की भी मौत नहीं होने का दावा किया। इसके बाद इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने डेंगू से हुई मौतों के मामले में सरकार से सही आंकड़े पेश करने के संबंध में नोटिस जारी किया है। डेंगू के खतरे से निपटने के लिए केंद्र सरकार द्वारा भेजी गई 23 करोड़ की राशि खर्च नहीं करने पर उत्तर प्रदेश सरकार अदालत की छानबीन के दायरे में आ गई है।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top