सम्पादकीय

वीआईपी कल्चर समाप्त करने का फैसला सराहनीय

vip culture

vip culture केंद्र सरकार ने किसी भी मंत्री की गाड़ी पर लाल बत्ती नहीं लगाने का सराहनीय फैसला किया है। इस फैसले से वीआईपी कल्चर खत्म होगा। केन्द्र ने लाखों लोगों के दर्द को समझा है, जो किसी मुसीबत के वक्त लाल बत्ती वाली गाड़ियों के कारण अपनी मंजिल तक पहुंचने में लेट हो जाते थे।

vip culture इसी वीआईपी कल्चर के कारण पिछले दिनों बड़ी संख्या में मरीजों को मुश्किलें आई और कई लोग सड़क पर ही अपनी जान गंवा बैठे। सरकार के इस फैसले के अनुसार प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री भी लाल बत्ती का प्रयोग नहीं कर सकेंगे। राजनीति में गाड़ी पर लाल बत्ती लगाना एक ट्रेंड सा बन गया था। गैर-कानूनी काम करने वाले लोग भी लाल बत्ती लगाकर पुलिस को चकमा देकर निकल जाते थे।

vip culture लाल बत्ती का मोह अयोग्य व्यक्तियों को भी राजनीति की तरफ ले आया था, जो शासन-प्रशासन में मात्र अपनी नेतागीरी जमाना चाहते थे। इसी कारण लोग किसी भी तरह चुनाव जीतने व पद लेने के लिए हर हथकंडा अपनाते थे। सरकार की इस नई नीति से नेताओं व अफसरों के दिलों में स्वयं को आम व्यक्ति समझने का विचार हमेशा रहेगा। कर्मचारियों में भी हीन भावना खत्म होगी।

vip culture इस तरह खास व आम आदमी के बीच कायम हो चुकी बड़ी खाई को भी भरा जा सकेगा। आम लोगों के अलावा कर्मचारी वर्ग भी वीआईपी कल्चर से बुरी तरह परेशान थे। पंजाब में अमरेन्द्र सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने इस दिशा में बेहतरीन पहल की। अमरेन्द्र सरकार ने उद्घाटन करने की परंपरा को भी बदलने का साहसिक व सराहनीय कदम उठाया है।

vip culture उद्घाटन समारोह में प्रशासनिक अधिकारियों का होना लाजमी नहीं होगा और इसी वजह से अधिकारी कार्यालयों में अपने काम निपटा सकेंगे। ऐसे कार्यों की शुरूआत पूरे देश में होनी चाहिए थी और केंद्र सरकार के फैसले से न केवल आम लोगों को राहत मिलेगी, बल्कि इससे राजनैतिक माहौल भी बदलेगा। बेहतर पहल को अपनाने में कोई हिचक नहीं होनी चाहिए, चाहे यह शुरूआत कोई भी राज्य करे।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top