राजस्थान

लापरवाही ने ली 11वीं के छात्र की जान

Death, Student, Electric Shock, Police, Rajasthan

 हाई वोल्टेज तारों से सीढ़ी छूने से हुई मौत, पेन्टर घायल

  • पेन्टर का हाथ बटाने के लिए गुरुजनों ने लगाया साथ
  • परिजनों व ग्रामीणों का जिला हस्पताल में हंगामा

हनुमानगढ़ (सच कहूँ न्यूज)। मानवाधिकार आयोग के सख्त निर्देश हैं कि विद्यालयों में बच्चों से शिक्षण के अलावा कोई कार्य नहीं करवाया जाए। लेकिन बावजूद इसके विद्यालय स्टाफ बच्चों से काम करवाने से बाज नहीं आ रहा। इसका खामियाजा मंगलवार को जिला मुख्यालय के नजदीकी गांव के एक छात्र को अपनी जान गंवाकर भुगतना पड़ा। स्कूल स्टॉफ ने स्कूल का नाम लिखने के लिए बुलाए पेन्टर का हाथ बटाने के लिए 11वीं के एक छात्र को लगा दिया। इस दौरान लोहे की सीढ़ी ऊपर से गुजर रही हाई वोल्टेज की विद्युत तारों से छू गई और करंट लगने से छात्र की मौके पर ही मौत हो गई जबकि पेन्टर घायल हो गया।

स्कूल स्टॉफ की लापरवाही से आक्रोशित ग्रामीणों व परिजनों ने राजकीय जिला चिकित्सालय में हंगामा कर दिया तथा प्रधानाचार्य की गिरफ्तारी न होने तक शव का पोस्टमार्टम करवाने से इन्कार कर दिया। आक्रोशित ग्रामीण व परिजन ट्रॉमा सेंटर के बाहर धरना लगाकर बैठ गए। उधर, पेन्टर दलीप की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। इसकी जानकारी जब ग्रामीणों व संजय के परिजनों को लगी तो वे जिला चिकित्सालय पहुंचे तथा स्कूल प्रबंधन के खिलाफ आक्रोश जताते हुए दोषियों पर कार्रवाई की मांग की। सूचना मिलने पर टाऊन थाना प्रभारी मोहम्मद अनवर, एसआई अनिल कुमार, जमना देवी, एएसआई रामभज आदि मौके पर पहुंचे तथा आक्रोशित परिजनों व ग्रामीणों से समझाइश करने लगे। लेकिन ग्रामीण व परिजन प्रधानाचार्य की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े रहे। मृतक संजय वालीबॉल का राष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी था।

क्या था मामला

जानकारी के अनुसार किशनगढ़ मेगा हाइवे पर टाऊन के नजदीक स्थित गांव कोहला के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के मुख्य गेट पर लगे बोर्ड पर नाम लिखवाने के लिए मंगलवार को प्रधानाचार्य की ओर से जंक्शन के वार्ड 42, सुरेशिया निवासी दलीप कुमार (36) पुत्र जयराम मण्डल को बुलाया गया था। बताया जा रहा है कि बोर्ड पर नाम लिखने के लिए पेन्टर दलीप कुमार की ओर से सीढ़ी की आवश्यकता जताने पर स्कूल स्टॉफ ने कक्षा 11वीं के छात्र संजय कुमार (16) पुत्र हरीश निवासी कोहला को सीढ़ी लाने के लिए भेजा। कुछ देर बाद वह सीढ़ी लेकर आया। जब वह स्कूल दीवार के साथ सीढ़ी लगाने लगा तो उसे ऊपर से गुजर रही 11 हजार वोल्टेज की विद्युत लाइनों का अंदेशा नहीं रहा तथा सीढ़ी विद्युत तारों से टच हो गई।

सीढ़ी में करंट दौड़ने से संजय कुमार चपेट में आ गया तथा गंभीर रूप से झुलस गया। पास खड़े पेन्टर दलीप भी करंट लगने से घायल हो गया। स्कूल स्टॉफ दोनों को जिला चिकित्सालय लेकर पहुंचे। वहां चिकित्सकों ने संजय कुमार को मृत घोषित कर दिया।

ट्रॉमा सेंटर के सामने लगाया धरना

दोपहर तक परिजनों व ग्रामीणों का चिकित्सालय में हंगामा चलता रहा। पुलिस अधिकारी उन्हें जांच करवा दोषी पर कार्रवाई करने का आश्वासन देते रहे। दोपहर करीब डेढ़ बजे परिजनों व ग्रामीणों ने ट्रॉमा सेंटर के सामने धरना शुरू कर दिया। ग्रामीणों ने चेतावनी दी कि जब तक दोषियों की गिरफ्तारी नहीं की जाती तब तक वे धरने से उठने वाले नहीं। इस मौके पर पार्षद देवेन्द्र पारीक, सुरेन्द्र बेनीवाल, राजू कोहला, संदीप कुमार के अलावा मृतक छात्र के परिजन व ग्रामीण मौजूद थे। वहीं, घटना के बाद प्रधानाचार्य सहित सारा स्टॉफ स्कूल से गायब हो गया।

विवादों के साथ चोली दामन का साथ

आपको बता दें कि गांव कोहला के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय का पहले से ही विवादों के साथ चोली दामन का साथ रहा है। ग्रामीणों ने पूर्व में भी बच्चों से काम करवाए जाने की शिकायतें प्रशासनिक अधिकारियों को की थी। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। भूतपूर्व एक महिला प्रधानाचार्य भी अपने कार्यकाल के दौरान चर्चा में रही। उनके कार्यकाल के दौरान विद्यालय में चल रहे निर्माण कार्य के समय ग्रामीणों से विवाद हुआ था। बाद में ग्रामीणों की मांग पर उक्त प्रधानाचार्य का स्थानांतरण अन्यत्र कर दिया गया। ग्रामीणों का आरोप है कि बावजूद इसके व्यवस्था नहीं सुधरी और इसका नतीजा मंगलवार को छात्र की करंट लगने से मौत के रूप में सामने आया।

रिपोर्ट दें, करवाएंगे जांच: सीआई

उधर, मौके पर मौजूद टाऊन थाना प्रभारी मोहम्मद अनवर ने बताया कि अभी तक परिजनों ने घटना के संबंध में किसी प्रकार की रिपोर्ट नहीं दी है। परिजन रिपोर्ट देंगे तो उसके आधार पर जांच करवा दोषी पाए जाने वाले पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top