Breaking News

सोशल मीडिया पर भारतीय सेना के पक्ष में खड़ा हुआ देश

Indian Army, Country, Social Media, Kashmir, India, ArmyJawan

कश्मीर में पत्थरबाज़ को जीप से बांधने का मामला

Chandigarh, Anil Kakkar: देश अनेकता में एकता फिर से साबित हुई है। गत दिनों जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना के जवाब के साथ अभद्र व्यवहार करने वाले पत्थरबाज़ को भारतीय सेना द्वारा जीप से बांध कर घुमाए जाने का वीडियो वायरल होने के बाद जहां कुछ लोग सेना पर सवाल उठा रहे हैं वहीं देश की बड़ी आबादी सेना के साथ आ खड़ी हुई है। इसमें देश की बड़ी हस्तियों से लेकर खेल एवं मनोरंजन जगत के लोग भी जुड़ गए हैं। सभी ने एक सुर में भारतीय सेना का साथ देते हुए शरारती तत्वों को कड़ा सबक सिखाने की बात भी कही है।

जवान ने अपना सब्र नहीं खोया एवं आगे बढ़ता रहा

बता दें कि गत दिनों श्रीनगर में हुए चुनावों के दौरान सुरक्षा व्यवस्था में लगे भारतीय सेना के जवान के साथ स्थानीय युवकों ने बहुत अभद्र व्यवहार किया। इस घटना के वीडियो पूरे देश में वायरल हो गए। वीडियो में साफ दिखाया गया है कि जवान को लात-घूसे मारे गए, अभद्र टिप्पणीयां की गई, जबकि जवान ने अपना सब्र नहीं खोया एवं आगे बढ़ता रहा। जबकि जवान के पास घातक एके-47 बंदूक भी थी। वहीं इस घटना के बाद जहां पूरे देश में अलगाववादियों के खिलाफ आवाज़ बुलंद हुई एवं गुस्से की लहर दौड़ गई।

वहीं जम्मू-कश्मीर में जिस पत्थरबाज़ को सेना की जीप से बांधकर घुमाया गया, उसका नाम फारूख डार है। डार ने दावा किया है कि 9 अप्रैल को उपचुनाव में वोट डालकर वह बहन के घर जा रहा था। इसी दौरान सेना ने उसे पत्थरबाज समझकर पकड़ लिया। जबकि सेना के सूत्रों ने बताया कि डार को हंगामे के दौरान पकड़ा गया। श्रीनगर में चुनाव के दिन हिंसा और आर्मी पर पथराव के बाद इसे पत्थरबाजों के खिलाफ शील्ड की तरह इस्तेमाल करना पड़ा। उसे सिर्फ 100 मीटर तक बांधकर रखा। सेना की ओर से कहा गया है कि वे इस वायरल वीडियो की जांच कर रहे हैं।

हालात इतने ज्यादा बिगड़ गए कि गोली चलाने की नौबत आ गई

मिली जानकारी के अनुसार बडगाम के बीरवाह में सेना की पांच गाड़ियों का काफिला जा रहा था। काफिले में सेना के जवान, ईसी के अफसर, आईटीबीपी के जवान और दो पुलिसवाले थे। तभी लोग छतों से पत्थर फेंकने लगे। हालात इतने ज्यादा बिगड़ गए कि गोली चलाने की नौबत आ गई। खूनखराबा रोकने के लिए मेजर ने एक पत्थरबाज को जीप के आगे बांध दिया, ताकि लोग पत्थर न फेंकें। बाद में उसे पुलिस के हवाले कर दिया।

इस घटना के बाद से कुछ लोगो ने सोशल मीडिया पर भारतीय सेना के बारे में अनाप-शनाप टिप्पणियां शुरू कर दिया। जिसके जवाब में भारतीय खेल जगत, मनोरंजन जगत के सितारे उतर आए। उन्होंने न केवल भारतीय सेना का हौसला बढ़ाया बल्कि देश की गरिमा के खिलाफ बोलने वालों को कड़ा जवाब भी दिया है।

सितारे उतरे भारतीय सेना के समर्थन में

भारतीय स्टार क्रिकेटर विरेंद्र सेहवाग ने अपने चिर-परिचित अंदाज में टवीट करते हुए कहा है कि “इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता। आप हमारे सीआरपीएफ जवानों के साथ ऐसा नहीं कर सकते। अब ये बंद हो जाना चाहिए। ये बदतमीजी की हद है।”

वहीं क्रिकेटर गौतम गंभीर भी सेना के साथ खड़े नज़र आए हैं। उन्होंने कहा कि ‘‘भारत विरोधी हमारे तिरंगे के तीन रंग का मतलब भूल गए? भगवा यानी गुस्से की आग। सफेद यानी जिहादियों के लिए कफन और हरा यानी आतंकवाद से नफरत।’’
एक अन्य टवीट में गंभीर ने कहा है कि ‘‘जवानों से बदसलूकी, मारपीट और गाली-गलौच का वीडियो वायरल हो रहा है। हमारे आर्मी जवान को मारे गए हर थप्पड़ के बदले 100 जिहादियों को मार देना चाहिए। जिसको भी आजादी चाहिए, वो देश छोड़कर चला जाए। कश्मीर तो सिर्फ हमारा है।’’

वहीं हरियाणा की माटी के सपूत एवं ओलंपिक मैडल विजेता रेसलर योगेश्वर दत्त ने भी भारतीय सेना का हौसला बढ़ाया और कहा कि ‘‘बाढ़ से बचाओ, फिर पत्थर खाओ तब तक कुछ लोगों को परेशानी नहीं है, अब जब सेना ने मारा नहीं बस हाथ-पैर बांध दिए तो अब उन्हें अच्छा नहीं लग रहा।’’ एक अन्य टवीट में उन्होंने कहा कि ‘‘जो लोग पूछ रहे हैं कि कौन कितनी बार कश्मीर गया है, तो बता दूं कि मैं एसी रूम में बैठ कर सनसनी नहीं फैलाता, हरियाणा के हर घर से एक आर्मी में जाता है।’’

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top