[horizontal_news id="1" scroll_speed="0.1" category="breaking-news"]
हरियाणा

साउथ अफ्रीका की तर्ज पर बनेंगे कंकरीट के साइलॉज

Concrete Silhouette, Lines, South Africa, Minister Karndev Kamboj, Haryana

मॉरीशस यात्रा से लौटे खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री ने दी जानकारी

चंडीगढ़(सच कहूँ न्यूज)। हरियाणा में साढ़े नौ लाख मिट्रिक टन के साइलॉज बनाने की मंजूरी मिली है जिसमें साढ़े छह लाख मिट्रिक टन क्षमता के साइलॉज हरियाणा सरकार बनाएगी और तीन लाख मिट्रिक टन क्षमता के गोदाम एफसीआई तैयार करेगी।

शुरूआत में स्टील के साइलॉज बनाएं जाएगें उसके पश्चात हरियाणा में भी साउथ अफ्रीका की तर्ज पर कंकरीट के साइलॉज तैयार किए जाएंगे। खाद्य, नागरिक आपूर्ति एंव उपभोक्ता मामले मंत्री कर्णदेव कांबोज ने बताया कि इनके बनने से किसान द्वारा कड़ी मेहनत से पैदा किया जाने वाला अनाज पूरी तरह सुरक्षित होगा और अनाज के अलावा फूल सहित अन्य फसलों के भंडारण की समस्या भी नही रहेगी।

यह जानकारी उन्होंने साउथ अफ्रीका व मॉरीशस की यात्रा के पश्चात स्वदेश पहुंचने पर दी। उन्होंने साउथ अफ्रीका व मॉरीशस की यात्रा के दौरान कंकरीट के साइलॉज का अवलोकन किया है।

सितंबर में भारत आएगी बीबीसी कंपनी

राज्यमंत्री कर्णदेव कांबोज ने बताया कि साउथ अफ्रीका में बी.बी. सी. (ब्लेक बिजनेस कांउसिल) से विभिन्न मुद्दो पर कई दौर की सफल वार्ता हुई है। उन्होंने सितंबर में भारत आकर साइलॉज की तकनीक सहित विभिन्न सम्भावनाएं तलाशने की बात कही है।

उन्होंने बताया कि साउथ अफ्रीका में पिछले 33 वर्षों से स्टील के साथ-साथ कंकरीट के साइलॉज बने हैं जिनमें अनाज के साथ-साथ सूरजमुखी, मक्का, कैटल फीड़ और फूलों को पूरी तरह सुरक्षित रखा जाता है। इस तकनीक से बने साइलॉज में सुविधा अनुसार तापमान को कम ज्यादा किया जा सकता है। यह तकनीक हरियाणा के लिए भी बेहद फायदेमंद साबित होगी।

कृषि एंव भूमि सुधार पर भी हुई चर्चा

स्वदेश पहुंचे प्रतिनिधिमंडल का दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर भाजपा कार्यकतार्ओं की ओर से जोरदार स्वागत किया गया। मंत्री कांबोज ने बताया कि दौरे के दौरान इसके अलावा वहां की सरकार तथा कंपनियों ने हरियाणा के प्रतिनिधिमंडल को कृषि एंव भूमि सुधार सहित अन्य क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की और इसी वर्ष सितंबर में भारत आने की बात कही।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top