मना॓रंजन

कॉमेडियन सिद्धार्थ सागर टीवी पर कर रहे वापसी 

entertainment

मुंबई (एजेंसी)। 

‘कॉमेडी क्लासेस’ (2014-2016) से सेल्फी मौसी के नाम से फेमस हुए कॉमेडियन सिद्धार्थ सागर टीवी पर वापसी कर रहे हैं। सिद्धार्थ कॉमेडी सर्कस से दोबारा टीवी की दुनिया में लौट रहे हैं। बता दें कि वे नवंबर 2017 में लापता हो गए थे। और चार महीने तक उनकी कोई खबर नहीं थी। कई लोगों ने उन्हें ढूंढने के लिए सोशल मीडिया पर मुहिम चलाई थी। आखिरकार वे सामने आए थे और कई खुलासे किए थे। सिद्धार्थ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि उनके साथ क्या-क्या हुआ था। उन्होंने बताया था कि उनकी मम्मी उन्हें ड्रग्स देती थी और उन्हें जबरदस्ती पागलखाने में भी डाल दिया था। बु

बता दें कि सिद्धार्थ के लापता होने की जानकारी उनके एक फ्रेंड ने अपने फेसबुक पेज पर दी थी। उन्होंने लिखा थी- ‘आप लोगों को याद है सिद्धार्थ सागर उर्फ सेल्फी मौसी उर्फ नसीर। ये शख्स पिछले 4 महीनों से लापता है। ये अंतिम बार 18 नवंबर 2017 को दिखा था। कोई नहीं जानता वो कहां है। वो मेरे बहुत अच्छे दोस्त है। प्लीज उसे ढूंढ़ने की कोशिश करिए’। हालांकि, बाद में उन्होंने ये पोस्ट डिलीट भी कर दी थी।

सिद्धार्थ ने खुद किए थे कई खुलासे

इसी साल अप्रैल में सिद्धार्थ ने खुद इंस्टाग्राम पर अपने ठीक होने की खबर की पुष्टि की थी। उसके बाद मीडिया से बातचीत कर अपनी फैमिली और खुद की हालत के बारे में खुलासा किया था। सिद्धार्थ ने मीडिया से बातचीत कर बताया था कि पेरेंट्स उन्हें खाने में ड्रग्स मिलाकर देते थे। इस बात का पता उन्हें तब चला जब वे अजीब सा फील करने लगे थे और उनका वेट भी कम होने लगा था। उन्होंने बताया था कि, जब अपनी हालत के बारे में पेरेंट्स को बताया तो उन्होंने कहा कि उन्हें बायपोलर नाम की बीमारी है। इस बीमारी के बारे में सुनकर वे शॉक्ड रह गए थे।

सिद्धार्थ ने मीडिया को बताया था कि ड्रग्स की वजह से उनकी हालत काफी खराब हो गई थी और उन्हें रिहैब सेंटर में भर्ती करवाया गया था। सेंटर में उन्हें काफी टॉर्चर किया जाता था। यहां पर 4-5 लोग मिलकर उन्हें मारते थे। पिटाई के बाद वे होश खो देते थे। उन्होंने बड़ी मुश्किल से अपने मैनेजर को कॉन्टेक्ट किया था। मैनेजर ने एक महीने की मशक्कत के बाद उन्हें सेंटर से बाहर निकाला था। उसके बाद एक बार गोवा जाते समय बीच में से ही उठवा लिया गया और पागलखाने में डाल दिया गया। फिर पागलखाने से निकालकर उन्हें आशा की किरण रिहैब सेंटर में शिफ्ट कर दिया था। बाद में पता चला कि गलत दवाइयों की वजह से उनकी ये हालत हुई हैं।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top