[horizontal_news id="1" scroll_speed="0.1" category="breaking-news"]
फीचर्स

…अगर बनना चाहते हैं पत्रकार

Career, Print Electronic, Media, Journalist

प्रिंट व इलेक्ट्रोनिक्स मीडिया में भी है करियर | Career

पत्रकारिता यानी मास कम्यूनिकेशन समय के साथ काफी बदल चुका है। नई-नई तकनीकों के कारण अब पत्रकारिता के कई प्लेटफॉर्म देखने को मिल रहे हैं। प्रिंट, रेडियो और टीवी के बाद पत्रकारिता का भविष्य (Career) वेब पर आ गया है।

अगर आप की दिलचस्पी समाचार, दुनिया में घट रही घटनाओं और लिखने में है तो आप इस फील्ड में आ सकते हैं। पत्रकारिता में करियर बनाने के लिए किसी भी स्ट्रीम से 12वीं पास होना जरूरी है।

12वीं के बाद आप चाहें तो डिप्लोमा, सर्टिफिकेट या डिग्री कोर्स कर सकते हैं। भारत के कई बड़े कॉलेजों में डिग्री लेवल पर मास मीडिया की पढ़ाई होती है। अगर आप ग्रेजुएशन के बाद पत्रकारिता की पढ़ाई करना चाहते हैं तो यह आपके लिए ज्यादा फायदेमंद होगी।

पत्रकारिता के प्रमुख कोर्स | Career

  • बैचलर डिग्री इन मास कम्यूनिकेशन
  • पीजी डिप्लोमा इन ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म
  • एमए इन जर्नलिज्म
  • डिप्लोमा इन जर्नलिज्म
  • जर्नलिज्म एंड पब्लिक रिलेशन
  • पीजी डिप्लोमा इन मास मीडिया

जर्नलिज्म की पढ़ाई के लिए प्रमुख संस्थान | Career

  • इंडियन इंस्टीट्यूट आॅफ मास कम्यूनिकेशन
  • माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता व संचार विश्वविद्यालय
  • एशियन कॉलेज आॅफ जर्नलिज्म
  • मास मीडिया रिसर्च सेंटर, जामिया मिलिया इस्लामिया
  • जेवियर इंस्टीट्यूट आॅफ मास कम्यूनिकेशन
  • सिम्बायोसिस इंस्टीट्यूट आॅफ मास कम्यूनिकेशन
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी
  • गुरु जंभेश्वर विज्ञान एवं तकनीकि विश्वविद्यालय, हिसार
  • चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ, उत्तर प्रदेश

ये हैं जर्नलिज्म कोर्स के महत्वपूर्ण फील्ड | Career

प्रिंट जर्नलिज्म : यह पत्रकारिता का सबसे पुराना फील्ड है जो भारत में अभी भी लोकप्रिय है। देश के कई भाषाओं में प्रिंट जर्नलिज्म के मौके उपलब्ध हैं। प्रिंट में मुख्य रूप से मैग्जीन, अखबार के लिए काम कर सकते हैं।

इलेक्ट्रॉनिक जर्नलिज्म : इलेक्ट्रॉनिक जर्नलिज्म पत्रकारिता को अक्षरों की दुनिया से निकालकर विजुअल की दुनिया में ले आया। आॅडियो, वीडियो, टीवी, रेडियो के माध्यम से यह दूर-दराज के क्षेत्र में भी लोकप्रिय होने लगा। टीवी सैटेलाइट, केबल सर्विस और नई तकनीकों के माध्यम से पत्रकारिता का यह सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म बन चुका है।

वेब पत्रकारिता: पत्रकारिता के इस प्लेटफॉर्म ने रीडर, विजिटर्स को फीडबैक की सुविधा दी, यानी आप न्यूज मेकर से सीधे सवाल पूछ सकते हैं। स्मार्टफोन के आ जाने से यह दिनप्रतिदिन आगे बढ़ रही है। पत्रकारिता के भविष्य के रूप में इस माध्यम को स्थापित किया जा रहा है।

पब्लिक रिलेशन : यह क्षेत्र पत्रकारिता से थोड़ा हटकर है, जर्नलिज्म की पढ़ाई के दैरान इसे भी पढ़ाया जाता है। किसी व्यक्ति, संस्थान की छवि को लोगों की नजर में सकारात्मक रुप से प्रस्तुत करना पब्लिक रिलेशन में आता है। पब्लिक रिलेशन का कोर्स करने के बाद बिजनेस हाउसेज, पॉलिटिकल पर्सन, सेलेब्रेटी और संस्थानों के लिए काम किया जाता है।

क्या करना होगा आपको | Career

पत्रकार के रूप में आपको फील्ड और डेस्क दोनों पर काम करना पड़ सकता है। फील्ड वर्क में रिपोर्टर और रिसर्च डिपार्टमेंट का काम होता है। फील्ड वर्क
के काम में वे लोग ज्यादा अच्छा कर सकते हैं जिन्हें सोसाइटी की समझ है और संपर्क सूत्र अच्छे हैं। एक रिपोर्टर का प्रमुख काम होता है प्रेस कॉन्फ्रेंस में जाना, इंटरव्यू लेना, किसी घटना की जानकारी इकट्ठा करना।

अगर आपकी दिलचस्पी फोटोग्राफी में है तो आपको फील्ड में कैमरामैन का काम मिल सकता है। कैमरामैन का काम सिर्फ फोटो खींचना नहीं होता है बल्कि ऐसे फोटो लाना होता है जो न्यूज के साथ मिल सके। वहीं, डेस्क पर न्यूज राइटिंग, एडिटिंग का काम मिलता है। इसके लिए आपके पास भाषा ज्ञान होना आवश्यक है।

नौकरी के अवसर | Career

पत्रकारिता की पढ़ाई करने के बाद आपको न्यूज एजेंसी, न्यूज वेबसाइट, प्रोडक्शन हाउस, प्राइवेट और सरकारी न्यूज चैनल, प्रसार भारती, पब्लिकेशन डिजाइन, फिल्म मेकिंग में रोजगार से अवसर मिलते हैं। आप चाहें तो फ्रीलान्सिंग भी कर सकते हैं।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top