[horizontal_news id="1" scroll_speed="0.1" category="breaking-news"]
पंजाब

कैप्टन का माझा को तोहफा, बागवानी संस्था के लिए रास्ता साफ

Captain Amarinder Singh, Congress, Pressure, Officials, Punjab

केन्द्रीय सहायता से स्थापित संस्था के लिए जमीन देने की स्वीकृति

  • अमृतसर के गांव धौलकलां में दस एकड़ जमीन होगी अलॉट

चंडीगढ़ (सच कहूँ न्यूज)। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने माझा को बड़ा तोहफा दिया है। सरकार ने शुक्रवार को केंद्र सरकार की सहायता से स्थापित की जाने वाली बागवानी की उच्च दर्जे की पोस्ट ग्रेजुऐट संस्था के लिए अमृतसर जिले में गांव धौलकलां में दस एकड़ जमीन अलाट करने की सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। इस प्रस्तावित संस्था के लिए जमीन की पहचान करने व अंतिम रूप देने के लिए कैप्टन अमरेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में बागवानी विभाग की बैठक के बाद एक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी।

बागवानी की खोज के लिए और 100 एकड़ जमीन की पहचान पहले ही दिसंबर 2015 में अटारी में की जा चुकी है। अब अतिरिक्त जमीन की पहचान शैक्षणिक संस्था को विकसित करने के रूप में प्रयोग करने के लिए की गई है।

फसल विभिन्नता को मिलेगा बढ़ावा

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) द्वारा पंजाब सरकार की सांझेदारी से कायम की जाने वाली यह संस्था फसली विभिंनता का उत्साहित करने में मददगार साबित होगी। जो कैप्टन अमरेन्द्र सिंह का मुख्य एजेंडा है और वह फसली विभिंनता को किसानों की आय बढ़ाने व राज्य के कृषि संकट के स्थाई हल के रूप में उत्साहित करने के लिए सरगर्मी से कार्य कर रहे है।

आईसीएआर का सहयोग करने के निर्देश

कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने अतिरिक्त मुख्य सचिव बागवानी हिम्मत सिंह को आईसीएआर के अधिकारियों के साथ जमीन के बारे में जानकारी सांझी करने के निर्देश देते हुए जगह का निरीक्षण करने के लिए आईसीएआर की टीम को निमंत्रण देने के लिए भी कहा। उन्होंने डिप्टी कमीशनर अमृतसर को जमीन का कब्जा आईसीएआर को सौंपने के लिए आवश्यक रस्मों / स्वीकृतियां पूरी करने के लिए कहा ताकि इस प्रोजैक्ट को शीघ्र अति शीघ्र शुरू किया जा सके।

संस्था स्थापित करने की घोषणा केंन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेतली ने की थी

  • बागवानी विभाग ने बैठक में बताया कि पहचान की जमीन गुरूनानक देव विश्वविद्यालय और रामतीर्थ के बीच क्षेत्र में स्थित है।
  • गेहूं धान के चक्कर में फंसे और कर्जे में जकड़े किसानों के लिए राज्य सरकार द्वारा कृषि की वातावरण प्रणाली सजृना के उदेश्य के रूप में बागवानी सहित फसली विभिंनता को जोर शोर से अमल में लाया जा रहा है।

 


Hindi News 
से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top