फीचर्स

12वीं के बाद कुछ विकल्प ये भी

12th, Options, Computer Science, Teaching, Competitive Examinations, Indian Army

कम्प्यूटर साइंस

इस क्षेत्र में किसी भी स्ट्रीम से 12वीं कर आप प्रवेश पा सकते हैं। बीसीए यानी बैचलर इन कम्प्यूटर एप्लिकेशन के लिए 10+2 में आर्ट्स, साइंस या कॉमर्स की कोई बाध्यता नहीं है। यदि आपकी रुचि कम्प्यूटर सार्इंस में है तो निस्संकोच बीसीए पाठ्यक्रम चुन सकते हैं। देशभर में 12वीं कक्षा के नतीजे लगभग आ चुके हैं।

विद्यार्थियों ने अब 10+2 के बाद करियर को लेकर विकल्प की तलाश कर दी है। कोई बीए, बी कॉम, बीएससी आदि में दाखिला लेने का इच्छुक है तो कोई प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर जल्द से जल्द नौकरी की तलाश में है।

अलग-अलग स्ट्रीम से पढ़ाई करने वालों के लिए संबंधित विषयों में करियर के विकल्प तो होते ही हैं, उनकी जानकारी भी लगभग सभी को होती है, लेकिन कुछ ऐसे सदाबहार क्षेत्र हैं, जिनमें किसी भी स्ट्रीम के छात्र अपना करियर सुरक्षित कर सकते हैं और ये सारे क्षेत्र प्रतिष्ठा भी दिलाते हैं। आज हम आपको ऐसे ही कुछ करियर विकल्पों के बारे में बता रहे हैं।

एक जमाना था, जब बच्चे 12वीं के बाद सिर्फ मेडिकल और इंजीनियरिंग के ख्वाब देखा करते थे और जो इन दोनों फील्ड में नहीं जाते थे, वह सामान्य स्नातक की पढ़ाई करते थे। लेकिन आज के छात्र अपने करियर को लेकर काफी जागरूक हो गए हैं और 12वीं पास करते ही अपने लिए विशेषज्ञ क्षेत्र चुन लेना चाहते हैं।

हालांकि अब भी कई माता-पिता और छात्रों को यह पता ही नहीं रहता कि वह क्या-क्या कर सकते हैं। मेडिकल, इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट के अलावा और कौन-कौन से ऐसे क्षेत्र हैं, जहां करियर भी सुरक्षित हो और प्रतिष्ठा के लिहाज से भी वे बेहतर हों, यहां हम कुछ ऐसे ही करियर विकल्पों के बारे में बता रहे हैं, जिनमें हर स्ट्रीम के छात्र जा सकते हैं।

अकाउंटेंसी व कंपनी सेक्रेटरीशिप में कई विकल्प

पहले केवल कॉमर्स के छात्र ही चार्टर्ड अकाउंटेंसी या कंपनी सेक्रेटरीशिप के क्षेत्र में प्रवेश कर सकते थे, लेकिन अब किसी भी स्ट्रीम के छात्र इसमें प्रवेश ले सकते हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि भारतीय चार्टर्ड अकाउंटेंट्स की मांग विदेशों में भी काफी है। इस कारण चार्टर्ड अकाउंटेंसी एक आकर्षक करियर विकल्प है।

दि इंस्टीट्यूट आॅफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स आॅफ इंडिया भारत सरकार के अधीन पंजीकृत संस्था है। इसी प्रकार कंपनी सेक्रेटरीशिप के पाठ्यक्रम के लिए दि इंस्टीट्यूट आॅफ कंपनी सेक्रेटरीशिप आॅफ इंडिया अधिकृत है। फाइनेंस के क्षेत्र में एक नया क्षेत्र उभर कर आया है, जिसे कॉस्ट एंड वर्क अकाउंटेंसी के नाम से जाना जाता है।

चार्टर्ड अकाउंटेंसी या कम्पनी सेक्रेटरीशिप की तरह इसमें तीन स्तरों- फाउंडेशन, इंटरमीडिएट और फाइनल परीक्षा को पास कर छात्र कॉस्ट अकाउंटेंट की योग्यता प्राप्त कर सकता है।

शेयर ब्रोकर

शेयर ब्रोकर के क्षेत्र में भी आप अपना करियर सुरक्षित कर सकते हैं। इसके लिए आपको नेशनल स्टॉक एक्सचेंज या बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज द्वारा आयोजित एक योग्यता परीक्षा पास करनी होती है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज द्वारा आयोजित परीक्षा को ‘एनएसई सर्टिफिकेशन इन फाइनेंशियल मार्केट’ और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज द्वारा आयोजित परीक्षा को सर्टिफिकेट प्रोग्राम आॅन कैपिटल मार्केट्स कहते हैं। वेबसाइट में आप तमाम जानकारी आसानी से पा सकते हैं।

पत्रकारिता
पत्रकारिता भी एक ऐसा क्षेत्र है, जिसे प्रतिष्ठा से जोड़ कर देखा जाता है। प्रिंट मीडिया और रेडियो पत्रकारिता तो काफी पहले से हो रही है, लेकिन इलेक्ट्रॉनिक और वेब जर्नलिज्म के आने के बाद इस क्षेत्र में करियर के अवसर काफी बढ़े हैं।

10+2 आर्ट्स के बाद 3 वर्षीय ‘बैचलर्स इन जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन’ या बीए (जेएमसी) जैसा पाठ्यक्रम कर आप इस क्षेत्र में कदम रख सकते हैं।

टीचिंग

आप तय करें कि आप स्कूल या विश्वविद्यालय किस में टीचिंग करना चाहते हैं। स्कूल स्तर के लिए स्नातक करने के बाद बी.एड. करें। इसके बाद टीईटी पास करें। अब आप किसी भी मान्यताप्राप्त स्कूल में शिक्षक बनने की योग्यता रखते हैं। यदि कॉलेज या विश्वविद्यालय में लेक्चरर बनना चाहते हैं तो पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद नेट की परीक्षा उत्तीर्ण करें। यह परीक्षा यूजीसी द्वारा साल में दो बार आयोजित की जाती है।

कानून के क्षेत्र में करियर

12वीं करने के बाद छात्रों का एक बड़ा तबका लॉ के क्षेत्र में जाता है। आर्ट्स में 10+2 के बाद पांच वर्षीय लॉ इंटिग्रेटेड पाठ्यक्रम पूरा कर कानून के क्षेत्र में करियर को एक नई दिशा दी जा सकती है।

पहले इस इंटिग्रेटेड पाठ्यक्रम में केवल बीए-एलएलबी पाठ्यक्रम होता था, मगर अब बीए एलएलबी के अतिरिक्त व्यापार प्रबंधन की चाह रखने वाले छात्रों के लिए बीबीए-एलएलबी, विज्ञान के छात्रों के लिए बीएससी-एलएलबी या कॉमर्स के छात्रों के लिए बीकॉम-एलएलबी पाठ्यक्रमों की भी घोषणा कर दी गई है। इस पाठ्यक्रम में दाखिले के लिए कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट यानी क्लैट में बैठना होगा।

प्रतियोगी परीक्षाएं

आर्ट्स के छात्रों के लिए विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के भी द्वार खुले हुए हैं। रेलवे, पीएसयू, सिविल सेवा, एसएससी आदि में आर्ट्स से स्नातक लाखों छात्र हर वर्ष शामिल होते हैं। इसलिए आर्ट्स में पढ़ाई कर आप देश भर की तमाम गैर-तकनीकी नौकरियों के लिए आवेदन कर सकते हैं।

भारतीय आर्मी

आप आर्ट्स में अपने पसंदीदा विषय से ही स्नातक करें और स्नातक के अंतिम वर्ष में हों तो कम्बाइंड डिफेंस सर्विसेज (सीडीएस) में प्रवेश की योजना बनाएं। साल में दो बार होने वाली इस परीक्षा में हर साल लगभग 500 छात्रों का चयन किया जाता है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top