हरियाणा

सरसा में पांच माह में भरे गए पेयजल के 90 सैंपल, 37 पास तो 53 फेल

53 Samples, Drinking, Water, Filled, Five, Months, Sirsa, 37 passed 

 

  • शहर के 10 से 12 इलाकों में पेयजल की स्थिति खराब
  • मलेरिया रोधी माह के तहत मलेरिया के तीन केस मिले

सच कहूँ-सुनील वर्मा

सरसा। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पांच माह के दौरान शहर के अलग-अलग वार्डों से पेयजल के 90 सैंपल भरे हैं। जिनमें से मात्र 37 सैंपल ही पास, जबकि 53 सैंपल फेल पाए गए हैं। शहर के वार्डों से भरे गए कुल 90 सैंपलों में से डेढ़ गुणा सैंपल फेल पाए गए हैं, जोकि चिंतनीय विषय है। साल-दर-साल जनसंख्या वृद्धि के चलते शहर के वार्डों में पेयजल की स्थिति गंभीर हो रही है।

डॉ. दीप ने बताया कि पिछले पांच माह के दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शहर के सभी वार्डों से पेयजल के सैंपल भरे हैं। सैंपलिंग की जांच के दौरान पाया गया है कि शहर के 10/12 क्षेत्र ऐसे हैं। जहां पेयजल पीने योग्य तो है, लेकिन उसमें बैक्टीरिया की मात्रा अधिक है। जोकि बीमारियों को दावत देती हैं। जिन इलाकों में स्थिति ज्यादा खराब हैं, उनमें रानियां रोड स्थित जंडी वाली गली, भाखड़ा काटॅन मील, चत्तरगढ़पट्टी, सिकलीगर मोहल्ला, इंद्रपुरी मोहल्ला, गांधी कॉलोनी, संजय कॉलोनी शामिल हैं। स्वास्थ्य विभाग भी इन क्षेत्रों में नजर बनाए हुए है।

मलेरिया रोधी माह के रूप में मनाया जा रहा है जून माह

मलेरिया अधिकारी डॉ. दीप गगनेजा ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा जून माह को मलेरिया रोधी माह के रूप में मनाया जा रहा है। बरसाती मौसम को देखते हुए मलेरिया से निपटने के लिए विभाग की ओर से अभियान चलाया गया है। लोगों को घर-घर जाकर टीम सदस्यों की ओर से जागरूक किया जा रहा है। डा. दीप ने कहा कि इस अभियान में आमजन को भी विभाग का सहयोग करना होगा। ताकि समय रहते समस्या से निपटा जा सके। लोगों से आह्वान किया जा रहा है कि अपने घरों के आसपास पानी एकत्रित न होने दें, कूलरों में सप्ताह में पानी एक बार जरूर बदलें, छत पर टायर व अन्य ऐसा सामान न छोड़ें, जिनमें पानी ठहरे।

सभी वार्डों में होता है नहरों का पानी सप्लाई, जांच का काम स्वास्थ्य विभाग का है

पब्लिक हैल्थ विभाग की ओर से शहर के सभी वार्डों में नहरी पानी की सप्लाई की जाती है। कई वार्डों में आबादी अधिक होने के कारण खपत ज्यादा है। इसलिए वार्डों में स्थापित ट्यूबवैलों का पानी सप्लाई कर खपत पूरी की जाती है। पानी की जांच का कार्य स्वास्थ्य विभाग का है।
-एसडीओ आंचल जैन, पब्लिक हैल्थ सरसा।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top