सम्पादकीय

वोटिंग मशीनों पर गुस्सा नजायज

EVM Tampered, Case, Notice, Center, Election Commission

VOTING MACHINES. पांच राज्यों में विधान सभा चुनाव सम्पन्न होने के बाद वोटिंग मशीनों से छेड़छाड़ के आरोप लगने का सिलसिला जारी है। हालांकि चुनाव आयोग ने नई मशीनें खरीदने का फैसला कर लिया है किंतु फिर भी आयोग इस बात पर अडिग है कि मशीनों से छेड़छाड़ संभव ही नहीं।

आयोग ने यहां तक दावा किया कि मशीनें बनाने वाली कंपनी भी छेड़छाड़ नहीं कर सकती। जहां तक पार्टियों के आरोपों का संंबंध है, आम आदमी पार्टी सबसे ज्यादा हंगामा कर रही है।

voting machines अरविन्द केजरीवाल ने चुनाव आयोग को धृतराष्ट्र करार दिया है। दिल्ली के चुनावों में भी इन्हीं मशीनों का प्रयोग हुआ था, जब आम आदमी पार्टी को 70 में से 67 सीटें हासिल की थी। पंजाब लोक सभा चुनावों में भी आम आदमी पार्टी को चार सीटों पर जीत मिली थी।

यदि ताजा विधान सभा चुनावों की बात करें तो चुनावी सर्वेक्षणों में स्पष्ट हो गया था कि परिणाम किस प्रकार के आएंगे। परिणाम आने के बाद यह बात सच साबित भी हुई। दरअसल पहले सत्तापक्ष पर यह आरोप लगता था कि पार्टी ने बूथ कैपचरिंग कर फर्जी वोट डलवाए हैं।

VOTING MACHINES. यह चुनाव आयोग की सख्ती है कि वोट वाले दिन कर्फ्यू जैसे हालात होते हैं। जगह-जगह सेना की टुकड़िया तैनात रहती हैं। पंजाब में कांग्रेस को इतना बड़ा बहुमत मिला कि पार्टी कह रही है कि इतनी तो उन्हें उम्मीद भी नहीं थी। इसी तरह गोवा व मणिपुर में भी कांग्रेस आगे रही। कांग्रेस को प्राप्त वोट के मद्देनजर केंद्र में सरकार चला रही पार्टी पर पक्षपात का आरोप लगाना बेमानी है।

उतर प्रदेश में एक चुनावी सर्वेक्षण भाजपा को 285 सीटों दे रहा था। ऐसा तो कहीं हुआ ही नहीं कि कोई पार्टी सर्वेक्षण में 5-7 सीटें ले रही थी और परिणामों में वह 300 से अधिक सीटें ले गई। अपनी किसी भी कमजोरी का आरोप मशीनों पर थोपने वाले नेताओं को अपनी कमजोरियों पर ध्यान देना चाहिए।

VOTING MACHINES. नि:संदेह चुनाव आयोग विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में सफलतापूर्वक चुनाव करवाने के लिए बधाई का पात्र है जिसे अंतरराष्ट्रीय स्तर की तकनीकों को अपनाकर लोकतंत्र को मजबूत किया है। वोटर वोटिंग मशीन में भरोसा रखता है। राजनेता मशीनों को गलत ठहराने की बजाय अपनी, नीतियों व कार्यक्रमों को लागू करने में रही खामियों पर ध्यान दें तो बेहतर होगा।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top